पटना मेट्रो का काम तीव्र गति से जारी: 76 एकड़ जमीन का शुरू होगा अधिग्रहण, प्रशासन ने जारी की अधिसूचना..

Patna Metro

न्यूज डेस्क: राजधानी पटना में मेट्रो रेल प्रोजेक्ट का काम अब तेजी से किया जा रहा है, इसी क्रम में शनिवार को जिला प्रशासन ने भूमि अधिग्रहण के लिए अधिसूचना जारी का दी है, पटना मेट्रो रेल प्रोजेक्ट के लिए कुल 75.945 एकड़ सरकारी व रैयती जमीन का अधिग्रहण किया जा रहा है, जिनमे 50.59 एकड़ जमीन पहाड़ी मौजा की है, वही 25.35 एकड़ जमीन रानीपुर मौजा की है। बता दे की मेट्रो डिपो में इंजन और कोच के देखरेख तथा मरम्मत का काम होता है। इसके अलावा इसमे ट्रायल का भी किया जाता है।

अधिसूचना जारी होने के बाद अगले दो महीने में यानी की 60 दिनों तक जिला भू-अर्जन कार्यालय में जमीन को लेकर दावा-आपत्ति ली जाएगी। वही तीन महीने में जमीन मुआवजा का भुगतान करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। इससे उम्मीदें की जा रही थी की छह महीने के अंदर सारा काम पूरा हो सकता है। निर्माण के दौरान किसी भी तरह की आपत्ति दर्ज कराने के लिए सूचना प्रकाशन के बाद से 60 दिनों का समय दिया गया है। जीरोमाइल से पाटलिपुत्र बस स्टैंड तक तथा वहां मेट्रो डिपो निर्माण लिए कुल 76 एकड़ भूमि का अधिग्रहण किया जाना है। यह भूमि पटना सिटी अंचल के पहाड़ी मौजा और रानीपुर मौजा के पास है।

मेट्रो रेल से मिली जानकारी के अनुसार, मुआवजे के लिए जिला प्रशासन को पूर्व में ही एक हजार करोड़ रुपये नगर विकास विभाग द्वारा दे दी गए है, इस प्रोजेक्ट के लिए 200 पिलर का निर्माण होगा, इसमें 100 से अधिक पिलर तैयार किए गए है। वही इस रूट पर दिसंबर 2022 तक काम पूरा करने का लक्ष्य है। इस रुट पर एलिवेटेड रूट पर बिजली के तारों को भी लगाए जाएंगे। इस रूट में मेट्रो के पांच स्टेशन होंगे जिनमे मलाही पकड़ी, खेमनीचक, भूतनाथ, जीरो माइल और आइएसबीटी शामिल है।

बता दे की आईएसबीटी से मलाही पकड़ी के बीच 6.60 किमी एलिवेटेड मेट्रो के निर्माण के लिए यूटिलिटी शिफ्टिंग का काम तेजी से चल रहा है। अभी तक बिजली के पोल और तार की शिफ्टिंग हो गई है । नाली के साथ इंटरनेट आदि के तार की शिफ्टिंग का काम चल रहा है। इसके साथ ही एलिवेटेड मेट्रो स्टेशन के निर्माण व एलिवेटेड लाइन (वाया डक्ट) के लिए पायलिंग का निर्माण भी तेजी से किया जा रहा है।

You cannot copy content of this page