बिहार के हर जिले में किन्नर होंगे एक दरोगा व चार सिपाही ,जल्दी ही बहाली की प्रक्रिया होगी शुरू

न्यूज डेस्क : जल्द ही बिहार पुलिस विभाग में एक नया बदलाव होने जा रहा है. जल्द ही जिले के विभिन्न क्षेत्रों में किन्नरों को पुलिस विभाग में जगह मिल जाएगी. यह किन्नर समुदाय के लिए बहुत बड़ी खबर है. बिहार सरकार ने पटना हाईकोर्ट में हलफनामा दायर करते हुए बताया है कि उसने राज्य में किन्नरों की आबादी के आधार पर पुलिस बहाली में उनका आरक्षण कोटा निर्धारित कर दिया है. इसके अनुसार, अब हर जिले में कम से कम एक किन्नर दारोग तथा चार सिपाहियो की बहाली तय हो गई है. ऐसे में वह दिन दूर नहीं, जब बड़े-बड़े अपराधी इन वर्दीधारी किन्‍नरों के आगे त्राहिमाम करते नजर आएंगे.

किन्‍नरों काे आबादी के अनुसार पुलिस बहाली में मिला आरक्षण कोटा पटना हाईकोर्ट में चीफ जस्टिस संजय करोल ने बताया कि राज्‍य में किन्नरों की आबादी कुल आबादी का 0.039 फीसद है. सरकार ने आबादी के आधार पर पुलिस बहाली में किन्‍नरों का आरक्षण कोटा निर्धारित कर दिया है. इसके साथ ही हाईकोर्ट ने अपने 14 दिसंबर, 2020 के उस आदेश में संशोधन किया, जिसमें उसने पुलिस बहाली के अंतिम परिणाम पर रोक लगा दी थी. अब पुलिस बहाली की प्रक्रिया शुरू की जा सकेगी.

हर एक जिले में कम-से-कम एक एसआइ और चार किन्‍नर कांस्टेबल राज्य सरकार के वकील अजय ने कोर्ट को बताया कि अब हर एक जिले में कम-से-कम एक पुलिस अधिकरी और चार कॉन्स्टेबल के पद पर किन्नरों की नियुक्ति की जाएगी. यदि आबादी अधिक हुई तो स्क्वॉड व प्लाटून का भी गठन किया जाएगा. किन्नरों के लिए पुलिस विभाग में स्पेशल यूनिट बनी है, ताकि उनसे जुड़ीं सामाजिक विसंगतियां दूर की जा सकें. उन्‍हें निकट भविष्य में और सुविधाएं भी दी जाएंगी .