मोदी मंत्रिमंडल में LJP से किसकी होगी इंट्री ? कौन कितना पावरफुल?

न्यूज़ डस्क : लोजपा में जारी घमासान के बीच अब एक और नया विवाद छिड़ गया है। बता दें कि पहले अध्यक्ष को लेकर विवाद शुरू हुआ था। और अब पार्टी टूट के बाद चुनाव चिह्न “बंगला” पर कब्जे की सियासी लड़ाई तेज हो गई है। लड़ाई संसद और चुनाव आयोग के बाद सोमवार को जमीन पर उतर गई। बता दें कि 5 जुलाई को रामविलास पासवान की जयंती पर चाचा चिराग और भतीजी ने अलग-अलग समारोह कर अपनी अपनी ताकत दिखाई। चिराग ने विरासत पर हक के लिए “आशीर्वाद यात्रा” निकाला तो चाचा ने भाई की जंयती मनाकर अपना हक जताया।

चिराग ने कहा-मंत्री बनने के लालच में चाच ने परिवार को भुला दिया : प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान चिराग ने चाचा पारस पर हमला बोलते हुए कहा- “पापा के गुजरे 9 महीने भी नहीं हुए कि मेरे चाचा ने खंजर भोंका। इसलिए आज आपके बीच आया हूं। चाचा ने सत्ता के लोभ में परिवार को भुला दिया। जो नीतीश कुमार पापा रामविलास पासवान को अपमानित किए थे। और आज उसी की गोद में जाकर बैठ गए हैं।‌ मैं यही कहना चाहूंगा, आशीर्वाद का हाथ कभी मेरे सर से उठने मत दीजियेगा। हाजीपुर को पापा मां समान मानते थे। हाजीपुर की वजह से ही पिता की पहचान बनी है। और उनकी आत्मा यही बसती है। इसी वजह से इस जगह को चुना।

चाचा ने जो मेरे साथ किया है वो संवैधानिक रूप से गलत है : चिराग ने दावा करते हुए बताया कि चाचा पशुपति पारस ने जो मेरे साथ किया है। वह संवैधानिक रूप से खासकर लोजपा के संवैधानिक रूप से तो बिल्कुल गलत है। आगे उन्होंने कहा कोई आकर मुझे बताएं आखिर चाचा पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष कैसे बन गए। आखिर किस प्रोसेस से अध्यक्ष बने। विगत दिनों पहले जो पटना में जो राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक बुलाया गया था वह बिल्कुल अवैध था।

इसीलिए पार्टी से निष्कासित किया था : चिराग ने चाचा पारस पर तंज कसते हुए कहा की मंत्री पद इतना बड़ा नहीं हो सकता कि उसके लिए पार्टी और परिवार को छोड़ दिया जाए। मुझे अगर ऐसे शर्तों पर मंत्री बनना होता तो मैं कभी मंत्री बनना कबूल नहीं करता। चाचा ने जो मेरे पूज्य पिता रामविलास पासवान के विचारों को पांव तले कुचलने कर एक अलग गुट बनाने का काम किया। इन्हीं बजाज से उन्हें पार्टी ने निष्कासित कर दिया है।

मोदी मंत्रिमंडल में LJP से किसकी होगी इंट्री: बता दें कि मंत्रिमंडल में विस्तार को लेकर अभी भी संशय बरकरार है। विस्तार को लेकर बिहार की सियासत तेज हो गई है। कैबिनेट विस्तार में सहयोगी जेडीयू और लोजपा को शामिल करने की खबरें सामने आ रही है। सबसे ज्यादा चर्चा यह हो रही है कि लोजपा से पशुपति पारस को शामिल किया जाएगा या फिर चिराग को मंत्री बनाया जाएगा? हालांकि, रामविलास पासवान की जयंती में अमित शाह ने पशुपति कुमार पारस को फोन किया था, इस फोन को केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार से जोड़कर भी देखा जा रहा है

You cannot copy content of this page