बिहार के इन जिलों में होगी अब सेब की खेती, किसानों को राज्य सरकार देगी 50% तक सब्सिडी, जानें – किन जिलों में होगी..

Apple Farming in Bihar

न्यूज डेस्क: बिहार के किसानों के लिए एक अच्छी खबर निकल कर सामने आईं है। ठंड परदेस में होने वाली सेव की खेती अब बिहार में भी जाएगी। किसानों के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि यह खेती करने के लिए राज्य सरकार आपको 50% तक सब्सिडी देगी। बता दे की सूबे में 45 डिग्री तापमान में पैदा होने वाले सेब की प्रजाति विकसित की गयी है। करीब 20 हेक्टेयर क्षेत्रफल में इसकी शुरुआत होगी। इसमें 10 हेक्टेयर रकबा में कृषि विभाग और 10 हेक्टेयर पर इसमें रुचि रखने वाले किसानों से इसकी बागवानी करायी जायेगी। एक हेक्टेयर में करीब ढाई लाख रुपये की लागत आयेगी।

जानकारी के लिए आपको बता दें की कृषि विभाग ने पहली बार सेब की बागवानी को इस नयी योजना में शामिल किया है। कृषि विभाग का मानना है कि सेब एक शीतोष्ण (कम तापमान वाली फसल) फल है, बिहार का मौसम भले ही इसके अनकूल नहीं है, लेकिन सेब की हरिमन-99 प्रजाति को विकसित किया गया है, इस प्रजाति का सेब बिहार के मौसम में पैदा किया जा सकता है। वही बेगूसराय, वैशाली, औरंगाबाद व भागलपुर में किसानों को सेब की बागवानी का अनुभव बेहतर रहा है। यहां प्रयोग सफल होने के बाद ही कृषि विभाग राज्यभर में अक्तूबर से फरवरी के बीच इसकी बागवानी का क्रियान्वयन कराने जा रहा है।

बता दे की सेब का क्षेत्र विस्तार करने के लिए सरकार किसानों को प्रति हेक्टेयर पर ढाई लाख रुपये तीन किस्तों में देगी। पहली किस्त में अनुदान का 60 फीसदी मिलेगा।बचा अनुदान दो समान किस्तों में दिया जायेगा। कृषि वैज्ञानिकों का मानना है कि सेब की उन्नत खेती सामान्यत ठंडे राज्यों में हो रही है। मैदानी क्षेत्र के लिए हरिमन-99 प्रजाति को विकसित किया गया है। यह 45 डिग्री तापमान पर भी अनकूल है। गया, नवादा अरवल आदि दक्षिण बिहार के जिलों को छोड़ दिया जाये, तो उत्तरी बिहार के सभी जिलों में सेब की खेती की जा सकती है।

You cannot copy content of this page