कोरोना संकट के बीच प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने के लिए नीतीश कैबिनेट ने लिया यह बड़ा फैसला

डेस्क : इस कोरोना महामारी ने लगभग सभी लोगों के काम धंधा बंद कर दिया है, इस लॉकडाउन की वजह से सभी लोगों के खाने के लाले पड़ गए हैं इसी को मद्देनजर रखते हुए मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पहली बार सीएम आवास से बाहर निकलकर एक बैठक बुलाई, यह बैठक सभी मंत्रियों के साथ मंत्रिमंडल की बैठक थी। इससे पहले कोरोना संकट के बीच मुख्यमंत्री वीसी के माध्यम से ही कैबिनेट की बैठक करते आए हैं।

25 एजेंटों पर लगी मुहर प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने के लिए आज नीतीश कैबिनेट ने बड़ा फैसला लिया है कैबिनेट की बैठक में कुल 25 एजेंटों पर मुहर लगी है। 5 एकड़ तक के जलाशयों का मनरेगा के तहत जीर्णोद्धार होगा,ग्रामीण इलाकों में सर्वजनिक जल संचय मनरेगा के तहत ही होगा। 5 एकड़ तक के जलाशयों का मनरेगा के तहत जीर्णोद्धार कराने पर नीतीश ने सहमति दे दी है, बहुत जल्द कार्य आरंभ हो जाएगा। कोरोना संक्रमण में प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने के लिए सरकार का यह बड़ा फैसला है। सरकार के इस फैसले से अब बहुत सारे श्रमिकों के लिए यह एक तोहफे से कम नहीं होगा।