न पीने का पानी और न ही साफ़ टॉयलेट, रात भर मच्‍छरों ने भी किया बुरा हाल, जेल में भूख हड़ताल पर बैठे पप्पू यादव

Pappu Yadav

डेस्क : देश में कोरोना के दुसरी लहर में पूरे देश की जनता त्राहिमाम है। सरकार द्वारा लगातार कोशिश के बाद भी विभिन्न अस्पताल मे सुचारु रुप से संसाधन उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं। जिसका नतीजन है, की मरीज ऑक्सीजन के बगैर, वेंटिलेटेड के बगैर और एंबुलेंस के बगैर मृत्यु को प्राप्त कर रहे‌ है। और प्राइवेट अस्पताल कालाबाजारी कि ओर उतरा है। इसी महामारी में के दौरान लोगों की मदद करने वाले जन अधिकार पार्टी (JAP) के सुप्रीमो और पूर्व सांसद पप्पू यादव को बिहार पुलिस (Bihar Police) द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है। पहले तो उन पर आरोप था। कि उन्होंने कोविड-19 के नियमों का उल्लंघन किया है।

जब जनता और विपक्ष ने सरकार को घेरा तो किसी तरह सरकार द्वारा आनन-फानन में 32 साल पुराने केस के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। जबकी, नीतीश सरकार द्वारा पप्पू यादव के खिलाफ उठाए गए इस कदम की विपक्षी पार्टियों द्वारा जमकर आलोचना की जा रही है। जिस दिन पप्पू यादव गिरफ्तार हुए थे। उस दिन सोशल मीडिया पर पप्पू यादव को रिहा करो ट्विटर पर ट्रेंड कर मामला काफी सुर्खियों में बना रहा। बिहार पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए पूर्व सांसद पप्पू यादव को वीरपुर जेल में कैद किया गया है। अब खबर सामने आ रही है कि वीरपुर जेल में बंद पूर्व सांसद पप्पू यादव ने जेल प्रशासन की कुव्यवस्था के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

इस मामले में उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से जानकारी देते हुए अपनी व्यथा को सांझा किया है। पप्पू यादव ने ट्वीट कर लिखा है कि “वीरपुर जेल में मैं भूख हड़ताल पर हूं। न पानी है, न वाशरूम है, मेरे पांव का ऑपरेशन हुआ था, नीचे बैठ नहीं सकता, कमोड भी नहीं है। कोरोना मरीज की सेवा करना,उनकी जान बचाना, दवा माफिया, हॉस्पिटल, माफिया,ऑक्सीजन माफिया, एम्बुलेंस माफिया को बेनकाब करना ही मेरा अपराध है। मेरी लड़ाई जारी है!” माना जा रहा है कि पूर्व सांसद पप्पू यादव को जानबूझकर जेल प्रशासन द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि पूर्व सांसद पप्पू यादव डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित है।हाल ही में उनके पांव का ऑपरेशन भी हुआ है। ऐसे में जेल प्रशासन द्वारा उनके साथ किए जा रहे इस दुर्व्यवहार से साफ जाहिर होता है कि यह सब सरकार के इशारे पर ही किया जा रहा है।

You cannot copy content of this page