VSP के रास्ट्रीय उपाध्यक्ष ने मजदूरों की मृत्यु पर किया चिंता प्रकट, कहा देश में मजदूरों का हो रहा है बुरा हाल

पटना : वंचित समाज पार्टी के चुनाव अभियान समिति के चेयरमैन सह रास्ट्रीय उपाध्यक्ष ललित सिंह ने महाराष्ट्र के जालना से औरंगाबाद जा रहे 16 मजदूरों के मालगाड़ी से कट कर हुई मौत पर गंभीर चिंता प्रकट करते हुए कहा कि अफसोस की बात है कि देश के हुक्मरान गरीब मजदूरों को मजबूर बनने पर विवश किए हुए हैं ,और इनके साथ अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है । जिस कारण यह सभी मजदूर पैदल ही अपने घर तक पहुंचने के लिए बेचैन दिख रहे हैं और पैदल ही निकल रहे हैं,क्योंकि ना तो केंद्र सरकार और ना ही राज्य सरकार की ओर से इनके लिए गंतव्य स्थान तक पहुंचाने का कोई साधन उपलब्ध कराया जा रहा है।

हद तो यह है कि ये सरकार इन मजदूरों का विश्वास जीतने में भी सफल नहीं हो पा रही है ,जिस कारण देश के लोगो को ऐसी स्थिति का लगातार सामना करना पड रहा है . कहीं सडक़ हादसे का शिकार होना पड़ रहा है तो कभी रेल पटरी पर अपनी जानें गंवानी पड़ रही है । विडंबना यह है कि जब सडक़ों और रेल पटरी पर ये चलते हैं तब स्थानीय स्तर पर राज्य सरकार या स्थानीय प्रशासन के द्वारा इनके भोजन -पानी की कोई व्यवस्था नहीं की जाती है बल्कि इनके साथ अमानवीय व्यवहार के रूप में इन्हें लाठी के सहारे रोकने का प्रयास किया जाता है। ऐसी स्थिति आजाद भारत में पहली बार देखने को मिल रही है जो देश के लिए शर्मसार करने वाली स्थिति है। ज्ञात हो की लोग पटरियों पर चलते हुए औरंगाबाद जा रहे थे। मजदूरों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया । वे पैदल चल रहे हैं।

उनके पांवों में छाले पड़ गए हैं। बहुत से मजदूर रेल की पटरियों के किनारे किनारे चल रहे हैं ताकि घर तक पहुंचने का कोई सीधा रास्ता मिल जाए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यह कहते नहीं थकते हैं कि सबका साथ , सबका विकास, सबका विश्वास लेकिन इन तीनों बातों पर केंद्र सरकार कहीं से भी खरी नहीं उतर रही है ना तो मजदूरों का साथ दे रही है ना ही मजदूरों का विश्वास जीत रही है और ना ही इनके विकास के लिए कोई कार्ययोजना तैयार की जा रही है, यह देश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है । जबकि देश के मजदूरों का बुरा हाल है।