अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर बिहार में बेगूसराय – मुंगेर रेल – सड़क पुल के एप्रोच पथ का होगा लोकार्पण, 19 वर्षों का सपना होगा पूरा.. जानें

Munger Pool Bihar

न्यूज डेस्क : पिछले 18 साल से अटके मुंगेर रेल सह सड़क पूल की बाधाएं अब जल्द दूर हो जाएगी। राज्य कैबिनेट की बैठक में अटके मुंगेर रेल सह सड़क पुल का अब समाधान निकाल लिया गया है । बिहार के जिला बेगूसराय और मुंगेर को जोड़ने वाली मुंगेर रेल सह सड़क पुल का कार्य अब अंतिम चरणों पर है। पुल को बनाने के लिए 57 करोड़ रुपये देकर राज्य सरकार जमीन अधिग्रहण की समस्या दूर करने के लिए तैयार हो गई है। आपको बता दे की इस पूल के लोकार्पण के लिए बेहद खास दिन को चुना गया है। इस पूल को 25 दिसंबर 2021 को पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिन पर किया जायेगा और इस पर आवागमन शुरू जायेगा।

पुल बन जाने से इन जिला वासियों होगा फायदा : बता दे की मुंगेर रोड पथ बन जाने से बेगूसराय , खगड़िया और मुंगेर एक साथ कोनेक्टिविटी में जुड़ जाएगी । जिससे यात्रियों तथा व्यापारियों का मार्ग और सुगम हो जाएगा । पथ बन जाने से खगड़िया और बेगूसराय का सफर कुछ मिनटों में ते हो सकेगा । फिलहाल , बेगूसराय से मुंगेर जाने के लिए लोगों को सड़क मार्ग से करीब 160-170 किलोमीटर तक का सफर तय करना होता है । पथ निर्माण के मंत्री नितिन नवीन ने कहा कि जेपी गंगा पथ से जुड़ने वाले अटल पथ के दूसरे चरण का कार्य मार्च 2022 तक पूरा कर लिया जाएगा। दूसरे चरण में 1.3 एकड़ भूमि के अधिग्रहण का मामला अटका हुआ था पर अब इसी प्रोजेक्ट मंत्रिमंडल की बैठक में लगभग 12 करोड़ की राशि के भुगतान का निर्णय लिया गया है ।

रेल मार्ग पर कुछ ट्रेनों का आवागमन शुरू है: आपको बात दे की मुंगेर रेल पटरियों का कार्य 2016 में ही पूरा हो चुका था । अगर स्पेशल ट्रैन की बात करे तो एक ही डेमो गाड़ी तिलरथ-जमालपुर दो फेरे चलाई जाती है । जबकि , यही गाड़ी खगड़िया के लिए भी दो फेरे चलाई जाती है । वही एक्सप्रेस के रूप में एक भागलपुर-जयनगर स्पेशल ट्रैन चलाई जा रही है इसके अलावा खगड़िया के लिए जमालपुर-सहरसा स्पेशल एक्सप्रेस चलाई जा रही है ।

करीब 19 साल से अटका हुआ है यह एप्रोच पूल बता दे की मुंगेर रेल सह सड़क पूल का निर्माण कार्य करीब 19 साल से अटक हुआ है । पूल का शिलान्यास 26 दिसंबर ,2002 को ही तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपयी ने किया था । अंततः 11 अप्रैल 2016 को रेल राज्य मंत्री मनोज सिंह द्वारा बेगूसराय-जमालपुर डेमु ट्रैन को हरी झंडी दिखाकर इसे पैसेंजर टट्रैन के लिए खोल गया था । 921 करोड़ रुपये की लागत इस पूल का निर्माण 2007 में ही होने का लक्ष्य रखा गया था । फिर बाद में जमीन अधिग्रहण की समस्या के कारण इसकी लागत में बढ़ोतरी हो गई और फिर नवंबर 16, 2015 को पुल के निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने 2774 रुपये की स्वीकृति दी ।

You may have missed

You cannot copy content of this page