9 February 2023

बिहार के 8 हजार शिक्षकों की नौकरी पर खतरा – ये रही सभी जिलों की लिस्‍ट..

bihar physical teacher vacancy

न्यूज डेस्क : बिहार में शिक्षा व्यवस्था पर लगातार सवाल उठते रहे हैं। कई वीडियो ऐसे सामने आते हैं जिसमें साफ दिखता है कि स्कूल में पढ़ा रहे शिक्षक बच्चों को पढ़ाने में असमर्थ साबित हो रहे हैं। ऐसे में सरकार की ओर से योग्यता जानने के लिए एक शिक्षक दक्षता परीक्षा का आयोजन किया गया था। इस परीक्षा में कई शिक्षक भाग लिए तो कई शामिल भी नहीं हुए। ऐसे में इन सभी शिक्षकों पर खतरा मंडरा रहा है। इन शिक्षकों को सरकार एक बार फिर से मौका दे रही है।

आठ हजार शि‍क्षक को देना होगा परीक्षा

मालूम हो कि शिक्षक दक्षता परीक्षा का आयोजन एक बार हो चुका है। इस परीक्षा में कई शिक्षको ने भाग नहीं लिया तो कई शिक्षक फेल हो गए। इन सभी शिक्षा को एक आखरी मौका दिया जाएगा। यदि इस परीक्षा में शिक्षक पास नहीं हुए तो उन्हें कोर्ट के आदेश पर सेवा से हटा दिया जाएगा। ये नियोजन इकाई के वे शिक्षक हैं जो शिक्षकों की नियुक्ति में शिक्षक पात्रता परीक्षा के प्रावधान से पूर्व कार्यरत थे।

शिक्षकों को परीक्षा पास करना अनिवार्य

शिक्षा विभाग के एक उच्च पदस्थ अधिकारी ने बताया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुपालन में ऐसे सभी शिक्षकों की दक्षता परीक्षा जल्द कराई जाएगी। स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशन रिसर्च एंड ट्रेनिंग (एससीईआरटी) द्वारा दक्षता परीक्षा लेने की तैयारी चल रही है। दक्षता परीक्षा लेने से पहले छह माह के प्रशिक्षण के माध्यम से शिक्षकों को तैयार किया जा रहा है ताकि वे दक्षता परीक्षा में शामिल होकर उत्तीर्ण हो सकें। शिक्षकों को इस परीक्षा में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।

फेल हुए शिक्षको की लिस्ट लंबी

दक्षता परीक्षा में अनुत्तीर्ण शिक्षकों की सूची थोड़ी लंबी है। नालंदा में 83, नवादा में 159, शेखपुरा में 11, गया में 132, सारण में 72, दरभंगा में 77, वैशाली में 59, पश्चिम चंपारण में 18, गोपालगंज में 209, जमुई में 88, कटिहार में 173, खगड़िया में 31, 31 किशनगंज में 136, लखीसराय 33, मधुबनी 260, अररिया 206, अरवल 20, औरंगाबाद 80, बेगूसराय 64, कैमूर 20, भागलपुर 10, भोजपुर 77, मुंगेर 31, मुजफ्फरपुर 25, पूर्णिया 165, रोहतास में 30 शिक्षक, सहरसा में 87, 74 समस्तीपुर में 10, शिवहर में 10, सीतामढ़ी में 140, सीवान में 164, सुपौल में 143 शिक्षक दक्षता परीक्षा में फेल हुए हैं, जिन्हें इस बार भी दक्षता परीक्षा में शामिल होना अनिवार्य है।