गया एयरपोर्ट से जल्द उड़ान भरेगी इंटरनेशनल फ्लाइट, बिहार सरकार के मंत्री ने सिंधिया से की मुलाकात

Gaya Airport

न्यूज डेस्क : राजधानी पटना से लगभग 100 किलोमीटर दूर गया एयरपोर्ट अपने प्राचीन संस्कृति और पर्यटन स्थलों को लेकर पूरे विश्व में विख्यात है। मगर, एयरपोर्ट अभी भी उन मूलभूत समस्याओं से जूझ रहा है। जिनको अभी इनकी जरूरत है। बता दें कि जिस तरह से बिहार में पटना एयरपोर्ट और दरभंगा एयरपोर्ट का परिचालन किया जा रहा है, अगर उस तरह से गया एयरपोर्ट का परिचालन शुरू हो जता है तो यहां से विदेशी पर्यटकों का तांता लग जाएगा। जानकारी के लिए आपको बता दें की गया एयरपोर्ट से दिल्ली-मुंबई सहित इंटरनेशनल फ्लाइट्स को फिर से शुरू करने की मांग तेज हो रही है।

जल्द ही गया एयरपोर्ट से विभिन्न शहरों के लिए उड़ान भरेगी: बताते चलें कि गया एयरपोर्ट की विभिन्न मूलभूत समस्याओं के मांगों को लेकर बिहार के लघु जल संसाधन विभाग मंत्री डॉ. संतोष कुमार सुमन ने केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने मंत्री को एक पत्र लिखा। अपने मांग पत्र में संतोष सुमन ने कहा कि वर्तमान में गया एयरपोर्ट से मात्र एक सेवा इंडिगो (Indgo) का कोलकाता-गया-कोलकाता तक सीमित है। गया से दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, वाराणसी की उड़ान सेवा बंद है। मंत्री ने कहा है कि गया एयरपोर्ट एक महत्वपूर्ण एयरपोर्ट हैं। कोरोना काल से पूर्व यहां से अनेक राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय उड़ानें नियमित रूप से संचालित थी। परंतु वर्तमान में सभी महत्वपूर्ण उड़ानों का परिचालन स्थगित है।

अपने प्राचीन संस्कृति को लेकर विख्यात है गया एयरपोर्ट: जानकारी के लिए आपको बता दें कि गया एक अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट ही नहीं बल्कि यहां विभिन्न धार्मिक एवं पर्यटन स्थल पर है। जैसे की बोधगया धार्मिक, पौराणिक एवं सांस्कृतिक रूप से अत्यंत महत्वपूर्ण केंद्र। विश्वप्रसिद्ध विष्णुपद मंदिर, गया में देश-विदेश से प्रतिवर्ष पितृपक्ष में लाखों श्रद्धालुओं आते हैं। थाईलैंड, कंबोडिया, म्यानमार, भूटान, श्रीलंका, तिब्बत, लाओस, वियतनाम, जापान, मकाउ, ताइवान, दक्षिण कोरिया, चीन इत्यादि से लाखों की संख्या में प्रतिवर्ष बौद्ध श्रद्धालुओं का आगमन हवाई मार्ग से होता है। 

हवाई सेवा बंद से विदेशी पर्यटक नहीं आ पा रहे हैं: बताते चलें कि गया एयरपोर्ट से विभिन्न फ्लाइट बंद रहने के कारण पर्यटक नहीं आ रहे। इसका असर बोधगया और गया के पर्यटन कारोबार पर पड़ रहा है। कारोबारियों की हालात को देखते हुए गया एयरपोर्ट से घरेलू और अन्तर्राष्ट्रीय उड़ानें शुरू करायी जाये। इसके साथ दिल्ली, मुंबई की दैनिक सीधी उड़ानें संचालित करायी जाये। गया से कोलकाता के बीच छोटे विमानों के स्थान पर बड़े बोइंग विमानों का परिचालन कराया जाना आवश्यक है ताकि बौद्ध बहुल से बौद्ध धर्मावलंबियों का कोलकाता से सुविधापूर्वक गया आवागमन संभव हो सके।

You may have missed

You cannot copy content of this page