फर्जी अस्पताल का पोल खोलने पर , मधुबनी में युवा पत्रकार की हत्या, बोरे में मिला अधजला शव

MADUBANI

डेस्क : बिहार में एक बार फिर अपराधियों के खिलाफ खबर लिखने के जुर्म में मधुबनी जिले में एक पत्रकार की हत्या कर दी गई है, वही मीडिया रिपोर्ट की मानें तो पत्रकार की गलती सिर्फ इतनी थी कि उन्होंने अपने क्षेत्र के स्थानीय अस्पताल माफिया के खिलाफ़ काली करतूतों का भंडाफोड़ किया था। शुक्रवार देर रात जिले के बेनीपट्टी इलाके में एक पेड़ के नीचे उनका अधजला शव बोरे में बंधा हुआ बरामद किया गया। पत्रकार की पहचान 22 वर्षीय अविनाश झा उर्फ बुद्धिनाथ झा के रूप में हुई है, अविनाश 9 नवंबर से ही लापता थे। परिवारवालों ने थाने में मिसिंग कम्प्लेंट दर्ज करवाई थी। उनका आरोप है कि बेनीपट्टी के स्थानीय अस्पताल माफिया ने किडनैप करवाया है, परिवारवालों अविनाश की हत्या का आरोप अस्पताल संचालकों पर लगाया है।

9 नवंबर को घर से हुए गायब, 12 नवंबर को अधजला शव बरामद: अविनाश के बड़े भाई चंद्रशेखर कुमार के मुताबिक 7 नवंबर को अविनाश ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट किया था । उसमें 8-9 क्लीनिक का नाम भी लिखा था, कहा था कि 15 नवंबर को खेला होबे पर 9 नवंबर को ही वो घर से गायब हो गया । फिर हमने 11 नवंबर को उनकी गुमशुदगी की एफआईआर दर्ज कराई थी। सीसीटीवी फुटेज में वे रात 9.58 तक मोबाइल पर बात करते हुए सड़क पर टहलते दिखे थे। इसके बाद उनका कोई पता नहीं चला। चंद्रशेखर ने एफआईआर में आरोप लगाया है कि उसके भाई को साजिश के तहत उसे गायब किया गया। 

बीते 1 सालों से फर्जी नर्सिंग होम का कारोबार कर रहे थे उजागर घटना के संबंध में उनके बड़े भाई ने बताया अविनाश बीते सालों से बेनीपट्टी में चले रहे फर्जी नर्सिंग होम पर कार्रवाई के लिए कागजी प्रक्रिया कर रहा था। उन्होंने कहा था कि 9 नवंबर की रात से अविनाश गायब है किसी गहरी साजिश के तहत बेनीपट्टी के स्थानीय अस्पताल संचालकों ने भाई को लापता कर दिया था, इस मामले में पुलिस अधिकारी ने कहा कि कुछ लोगों को हिरासत में लिया गया है, कुछ और की भूमिका सामने आई है, जिसकी गिरफ्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।

पुलिस ने कहा 4 दिन पहले हत्या हुई है: स्थानीय पुलिस के मुताबिक, पत्रकार अविनाश की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में 4 दिन पहले मौत होने की बात सामने आई है, वहीं, पुलिस अधिकारी ने कहा कि शिकायत मिलने के साथ ही पुलिस जांच-पड़ताल में जुटी हुई थी, हालांकि अब शव मिलने पर शिकायत दर्ज कर सभी बिंदुओं की जांच-पड़ताल की जा रही है, उन्होंने कहा कि पुलिस जल्द ही हत्या से जुड़े व्यक्ति को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर लेगी।

थाना से महज 300-400 मीटर की दूरी पर अधजला शव बरामद हुआ: मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शव को जलाकर सड़क किनारे फेंका गया था, शव की पहचान अविनाश के हाथ की अंगूठी, पैर में मस्से का निशान, गले में चेन से की गई। शव को बरामद करने के साथ ही अविनाश के बड़े भाई की सहमति से शव को तत्काल मधुबनी सदर अस्पताल पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया, घटना थाना क्षेत्र के महज 300-400 मीटर की दूरी पर हुई है, मृतक युवक का घर भी थाना से महज 400 मीटर की दूरी पर है।

You may have missed

You cannot copy content of this page