क्या बिहार में फिर से लगेगा लॉकडाउन ! कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच बिहार सरकार ने लिए 7 बड़े फैसले

Bihar

डेस्क : इस वक्त की बड़ी खबर बिहार की राजधानी पटना से आ रही है। सूबे मे बढ़ते करोना प्रकोप को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को राजधानी स्थित पटना में एक हाई लेवल मीटिंग की है। जिसमें उन्होंने आज यह स्पष्ट कर दिया कि सार्वजनिक आयोजन को कुछ दिनों के लिए स्कूलों को स्थगित रखा जाऐगे। मु

ख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस के बढ़ते मामले को देखते हुए क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप स्कूलों को बंद रखने के बारे में विचार किया गया है। मुख्यमंत्री के निर्देेेश के बाद ग्रुप की बैठक हुई। बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि 12 अप्रैल तक बिहार के सभी स्कूल बंद रहेंगे। जो जानकारी मिली है उसके अनुसार इस संबंध में विस्तृत आर्डर शिक्षा विभाग की तरफ से जारी किया जाना है। संभवतः रविवार को शिक्षा विभाग आदेश जारी करेगा। इसको को लेकर बिहार सरकार ने 7 बड़े फैसले लिए हैं

  1. बिहार गृह विभाग के तरफ से जारी आदेश के मुताबिक-  7 अलग-अलग आदेश जारी किए गए हैं. जिसमें सभी कार्य स्थलों धार्मिक और शॉपिंग मॉल होटल एवं रेस्टोरेंट आदि के संचालन के समय कोविड-19 जारी मानक संचालन प्रक्रिया का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने का आदेश दिया गया है. 
  2. भीड़भाड़ वाले स्थलों फूड कोर्ट जलपान गृह सब्जी मंडी बस स्टैंड रेलवे स्टेशन रेड्डी आदि पर व्यक्तियों के जमावड़े को नियंत्रित करने हेतु अधिक से अधिक पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति सुनिश्चित करने का आदेश दिया गया है.
  3. 5 अप्रैल से राज्य में खुलने वाले स्कूल कॉलेज एवं कोचिंग क्लासेस 11 अप्रैल तक बंद रहने के निर्देश दिए गए हैं साथी पूर्व से निर्धारित परीक्षाएं कोविड प्रोटोकॉल के हिसाब से करने का निर्देश जारी किया गया है
  4. सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी प्रकार के आयोजनों पर 5 अप्रैल से 30 अप्रैल तक पूरी तरीके से रोक होगी इस लोक में विवाह श्राद्ध एवं अन्य पारिवारिक कार्यक्रमों को शामिल नहीं किया गया है राज्य में 50 जबकि विवाह जैसे कार्यक्रमों में 250 व्यक्तियों की अधिकतम सीमा लगाई गई है
  5. सभी सरकारी दफ्तरों में सामान्य आगंतुकों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है कार्यालय प्रधान अपने स्वविवेक से अपने कार्यालय का समय एवं कार्यालय में उपस्थिति निर्धारित करने के लिए सक्षम रहेंगे यह व्यवस्था भी 30 अप्रैल तक लागू करने की बात कही गई है
  6. पब्लिक ट्रांसपोर्ट में अधिकतम 50% क्षमता से ज्यादा किसी भी परिस्थिति में परिचालन की इजाजत नहीं होगी यह व्यवस्था 5 अप्रैल से 15 अप्रैल तक लागू की गई है परिवहन विभाग एवं जिला प्रशासन इसके लिए आवश्यक कदम उठाएंगे
  7. वहीं सार्वजनिक स्थलों पर जिला प्रशासन सुनिश्चित करेगा कि कोविड-19 रक्षात्मक उपाय यथा मांस का उपयोग सामाजिक दूरी इत्यादि सुनिश्चित रहे.

शादी एवं अन्य सार्वजनिक स्थान आयोजन भी होंगे बंद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. बढ़ते मामले को ध्यान में रखते हुए अधिक से अधिक टेस्टिंग कराने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने आरटीपीसीआऱ जांच को और भी बढ़ाने का निर्देश दिया है। साथ ही सीएम ने कहा कि जितनी अधिक जांच होगी उतना अधिक संक्रमण के बारे में पता चलेगा।  मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि सार्वजनिक आयोजनों को कुछ दिनों के लिए स्थगित रखें। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए क्राइसिस मैनेजमेंट

2020 भीषण लॉकडाउन के बाद एक बार फिर से स्कूल बंद  आपको बता दें, कोरोना की वजह से 2020 में पूरा साल स्कूल और कॉलेज बंद रहा। इस बार नये सत्र से पढ़ाई शुरू होने की विधिवत तैयारी चल रही थी। लेकिन कोरोना के बढ़ते संक्रमण का बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आज हाईलेवल मीटिंग की। मीटिंग में सीएम ने मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली क्राइसिसि मैनेजमेंट ग्रुप से कहा कि आप स्कूल बंदी के संबंध में निर्णय लें।

You may have missed

You cannot copy content of this page