बिहार के अफसरों की लापरवाही के चलते केंद्र से बिहार राज्य को केंद्र से नहीं मिले 383 करोड़ रुपए

narender modi

न्यूज डेस्क : बिहार में एक बार फिर अफसरों की लापरवाही सामने आ रही हैं. इस लापरवाही के चलतेेे बिहार को केंद्र सरकार तरफ से करोड़ों का घटा सहना पड़ा. मामला शिक्षकों के 7वें वेतनमान पर खर्च से जुड़ा हुआ है. और लापरवाही अफसरों से जुड़ा हुआ है. क्योंकि समय पर दस्तावेज नहीं भेजने से बिहार को केंद्र से 383 करोड़ केंद्र रुपए नहीं मिले.

यह जानकारी केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने सुशील मोदी के राज्यसभा में पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में दी. ‘निशंक’ ने कहा कि बिहार सरकार ने सूचित किया है कि उसने राज्य विश्वविद्यालयों व कॉलेजों के शिक्षकों और समकक्ष संवर्गों के लिए वेतन संशोधन (7वां सीपीसी) की योजना कार्यान्वित की है और 1.1.2016 से 31.03.2019 की अवधि के लिए योजना के कार्यान्वयन पर कुल अतिरिक्त व्यय 767 करोड़ हुए हैं. लेकिन उसने निर्धारित अवधि में संबंधित दस्तावेज नहीं भेजे.

इसलिए बिहार को अतिरिक्त खर्च की गई 383 करोड़ की राशि नहीं मिलेगी. मंत्री ने बताया कि 7वां वेतन संशोधन योजना को कुछ शर्तों के तहत कार्यान्वित करने और योजना की समापन तिथि यानी 31 मार्च 2020 तक आवश्यक दस्तावेजों के साथ पूर्ण प्रस्ताव प्रस्तुत करने वाली राज्य सरकारों को वेतन संशोधन के कार्यान्वन पर हुए अतिरिक्त व्यय के 50% की प्रतिपूर्ति की गई. लेकिन योजना की अंतिम तिथि 13 मार्च 2020 तक या उससे पहले आवश्यक दस्तावेजों के साथ पूरा प्रस्ताव प्रस्तुत नहीं किए जाने के कारण बिहार को केन्द्रीय हिस्सा नहीं जारी किया जा सका.

You may have missed

You cannot copy content of this page