बिहार को PM मोदी की बड़ी सौगात: पटना के बाद बिहार के इस जिले में खुलेगा राज्‍य का दूसरा आयुष अस्पताल

Ayush Hospital Gopalganj

न्यूज डेस्क : बिहार वासियों के लिए खुशखबरी है। विशेषकर मिथिलांचल लोगों के लिए, क्योंकि गोपालगंज में जल्द ही राज्य का दूसरा आयुष अस्पताल बनने जा रहा है। बता दें कि केंद्र सरकार ने इस अस्पताल के लिए कुल 6.40 करोड़ रुपये गोपालगंज जिला प्रशासन को आवंटित भी कर दिए हैं। राज्य का पहला आयुष अस्पताल राजधानी पटना में चल रहा है। और दूसरा अस्पताल अब गोपालगंज में बनेगा। गोपालगंज के जनता दल यूनाइटेड (JDU) सांसद डा. आलोक कुमार सुमन ने इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गोपालगंज को दी गई सौगात बताया है। इस आयुष अस्‍पताल में एलोपैथ छोड़ आयुर्वेद , होमियोपैथ, यूनानी , योगा आदि देशी चिकित्‍सा पद्धतियों से इलाज किया जाएगा। इसमें देशी पद्धतियों के प्रशिक्षित डाक्‍टरों व चिकित्‍साकर्मियों की टीम तैनात रहेगी।

50 बेड वाला बनेगा आयुष्मान अस्पताल: बता दें कि गोपालगंज में केंद्र सरकार द्वारा 50 बेड वाला आयुष अस्पताल बनाया जाएगा। इस इंटीग्रेटेड अस्‍पताल में आयुर्वेद, होम्योपैथ एवं योग सहित अन्य देशी चिकित्‍सा पद्धतियों से मरीजो का इलाज किया जाएगा। अस्‍पताल के लिए केंद्र सरकार ने 6.40 करोड़ का आवंटन कर दिया है। सासंद आलोक सुमन ने कहा कि अस्‍पताल के लिए गोपालगंज सदर प्रखंड के भीतभैरवा गांव के निकट मिशन के पास जमीन की मंजूरी की बाबत बिहार सरकार के पास प्रस्ताव भेजा जा चुका है। राज्‍य सरकार की मंजूरी मिलते ही अस्‍पताल निर्माण की प्रक्रिया आरंभ कर दी जाएगी।

कोरोना की तीसरी लहर में आएगी काम: सांसद आलोक कुमार सुमन ने बताया यह आयुष अस्पताल कोरोना की तीसरी लहर के लिए सार्थक साबित होगा। आगे उन्होंने बताया पीएम केयर्स फंड (PM Cares Fund) की राशि से गोपालगंज सदर अस्‍पताल (Gopalganj Sadar Hospital) में एक हजार क्षमता के आक्सीजन जेनरेशन प्लांट को बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जिले में सदर अस्‍पताल थावे हथुआ व सिधवलिया के झझवा में पांच आक्सीजन प्लांट लगाए जा रहे हैं। मीरगंज के छाप में पहले से एक आक्सीजन प्लांट है।

You may have missed

You cannot copy content of this page