बिहार में बिछेगा सड़कों का जाल – साल से शुरू होगा 275 किमी लंबे हाइवे का निर्माण, जानें – पूरा रूट..

डेस्क : बिहार में राजनीति की बिसात तो खूब बिछती है। और तो और बिहार की राजनीति की बिसात की चर्चा तो समूचे देश में है। भलें हीं बिहार की राजनैतिक बिसात बिछने के कारण फेमस है लेकिन यहां की सड़क सिकुड़ने के कारण लोकप्रिय है। लेकिन धीरे धीरे अब बिहार की सड़के बहुत तेजी से बिछने लगी है।

इस वर्ष बिहार के अलग-अलग 9 जिलों में लगभग 275 किलोमीटर लंबी सड़क का निर्माण कार्य प्रारंभ होगा। पश्चिम चंपारण, कटिहार, पूर्णिया, किशनगंज, खगड़िया, सहरसा, नवादा, औरंगाबाद और बांका में हो रहे स्टेट हाईवे के निर्माण का लागत खर्च 2680.33 करोड़ रूपए बताया जा रहा है। इन 9 जिलों में स्टेट हाईवे के निर्माण हो जाने से यहां आवागमन में बहुत ही सुविधा होगी। 275 किलोमीटर लंबी सड़क के निर्माण कार्य स्टेट हाइवे प्रोजेक्ट-3 (फेज-2) के अंतर्गत किया जाएगा।

इन सड़कों के निर्माण कार्य की जिम्मेवारी बिहार राज्य पथ विकास निगम लिमिटेड को दी गई है। खगड़िया सहरसा में एसएच 95 बनना तय हुआ है। इस स्टेट हाईवे की लंबाई 14.1 किलोमीटर होगी तथा इसकी कुल लागत खर्च 513.73 करोड़ रुपए है। 13.97 लंबी सड़क फुनगो हॉल्ट से लेकर सिमरी बख्तियारपुर तक बनना तय हुआ है। इस सड़क को बनाने में लगभग 147.92 करोड रुपए लागत खर्च आएगा। नवादा जिले में स्टेट हाईवे संख्या 103 का निर्माण होना है। एसएच 103 करीब 21.80 किलोमीटर लंबी होगी और इसकी निर्माण मांझवे से फतेहपुर तक किया जाएगा।

नवादा जिले के फतेहपुर से गोविंदपुर तक और गोविंदपुर से रोह तक सड़क का निर्माण किया जाना है। फतेहपुर से गोविंदपुर तक प्रस्तावित सड़क की लंबाई 20.19 किलोमीटर होगी वही गोविंदपुर से रोह तक की लंबाई 4.32 किमी होगी। नवादा जिले में प्रस्तावित तीनों हाईवे को बनाने में कुल लागत खर्च 211.69 करोड़ रूपए है। एसएच 101 औरंगाबाद जिले में बनना प्रस्तावित हुआ है। एसएच 101 अंबा-देव-मदनपुर से गुजरेगी। इसकी लंबाई 32.47 किलोमीटर होगी और इसको बनाने में कुल लागत खर्च 184.91 करोड़ रुपए होगी।

ये भी पढ़ें   बिहार की बिजली से रोशन हो रहे गुजरात - NTPC नवीनगर से गुजरात को दी जा रही है 50 मेगावाट बिजली, जानें -

एसएच-85 बांका जिले के अमरपुर बाईपास होते हुए गुजरेगा। इस स्टेट हाईवे की लंबाई करीब 4.35 किलोमीटर होगी। मिली जानकारी के अनुसार स्टेट हाईवे संख्या 105 चंपारण के बेतिया नरकटियागंज होते हुए गुजरेगी। इस हाईवे की लंबाई 35.70 किलोमीटर होगी और इसको बनाने में कुल लागत खर्च 317.25 करोड़ रुपए होगा। कटिहार में कटिहार बलरामपुर एसएच 98 जिसकी लंबाई 62.88 किलोमीटर प्रस्तावित है। इस हाइवे को 702.59 करोड़ रुपए की लागत खर्च से बनाया जाएगा।

एसएच 99 पूर्णिया और किशनगंज जिले से गुजरेगी। बायसी बहादुरगंज दिघलबैंक होते हुए इस सड़क की लंबाई 65.35 किमी हो जाएगी। इस हाइवे को बनाने के लिए सरकार की ओर से 702.59 करोड़ रुपया निर्गत किया जाएगा। संजय कुमार, सीजीएम बीएसआरडीसीएल से मिली जानकारी के अनुसार सभी स्टेट हाईवे का काम इस वर्ष के अंतिम अंतिम तक शुरू हो जाएगा। इस वर्ष शुरू हो रहे निर्माण कार्य 2024 तक पूर्ण हो जाने की संभावना है। स्टेट हाईवे संख्या 95 को बनने में 4 साल लगने की आशंका जताई जा रही है। तो फिर इस हिसाब से यह 2026 में बनकर तैयार हो जाएगा। संजय कुमार ने कहा इन हाईवे के बनने से आवागमन की सुविधा चुस्त और दुरुस्त हो जाएगी। जिन जिलों में यह बन रहा है वहां तो सीधा लाभ होगा ही साथ ही साथ अन्य जगहों से भी आवागमन आसान हो जाएगी। आवागमन की सुविधा बढ़ने से सभी जिलों में आर्थिक विकास की रफ्तार में तेजी आयेगी।