नितीश सरकार ने भ्रष्टाचारी नेता को बनाया शिक्षा मंत्री, राजद ने ट्वीट कर दिलाया याद की…

डेस्क : बिहार सरकार में इस वक्त मंत्रियों के विभागों का बटवारा किया जा चुका है ऐसे में मुख्यमंत्री नितीश कुमार ने अपने अंतर्गत गृह विभाग एवं प्रशासनिक विभाग की जिम्मेदारी ली है और अगर उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद की बात करें तो उनके पास वित्त विभाग, शहरी विकास विभाग, पर्यावरण विभाग और इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी विभाग है। बिहार का नया शिक्षा मंत्री भी बनाया जा चुका है जो कि मेवालाल चौधरी हैं मेवालाल चौधरी के पास कृषि विश्वविद्यालय में किए गए घोटाले का आरोप है। साथ ही इस वक्त उनके ऊपर प्राथमिकता भी दर्ज है। आपको बता दें कि भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद जब बिहार के राज्यपाल थे तो उनके द्वारा मेवा लाल के ऊपर इस मामले की कार्यवाही भी करवाई गई थी। इस कार्यवाही के आदेश भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा दिए गए थे। ऐसे में उनके ऊपर कृषि विश्वविद्यालय के निर्माण घोटाले का आरोप है।

राजद पार्टी की ओर से ट्वीट करके कहा गया है कि जिस भ्रष्टाचारी नेता को सुशील कुमार मोदी खोज रहे थे वह मिल गया है और उसको अब नीतीश कुमार ने मंत्री पद से नवाजा है।

यह घोटाले का मुद्दा विधानसभा के अन्य नेताओं द्वारा भी काफी जोर-शोर से उठाया गया था। जिसमें यह साफ साबित किया गया था कि मेवालाल ने विश्वविद्यालय के निर्माण में बड़ा घोटाला किया है। यह मामला 2017 में उजागर हुआ था आपको बता दें कि वह सत्ता के शीर्ष पद के परिवार के बेहद करीबी हैं जिस वजह से जांच पड़ताल के मामले में काफी देर लगी थी। इस बार मेवालाल जेडीयू के टिकट पर दूसरी बार विधायक बने हैं और वह पहली बार 2015 में विधायक बने थे। साथ ही वह शिक्षक भी रह चुके हैं। उन्होंने कोईरी समुदाय के लोगों के लिए भी कार्य किया है। इनके पास एमएससी की डिग्री है साथ ही इन्होंने पीएचडी भी की है। इन्होंने अपना राजनीतिक सफर 2010 में शुरू किया था और शुरू से ही वह एग्रीकल्चर के मुद्दों से जुड़े रहे हैं जिस कारण वह कृषि रोड मैप तैयार करने वाले दल के सदस्य भी रह चुके हैं।