बिहार में फ़रवरी से होगा 900 मेगावॉट से ऊपर बिजली का उत्पादन, जानिए परियोजना का पूरा काम

डेस्क : बिहार दिन प्रतिदिन गति कर रहा है और इसको लेकर अब बिहार की गिनती भी उन राज्यों में होने वाली है जो भारत की आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। सरकार ने कहा कि अगले महीने से बिहार में 900 मेगावॉट से ऊपर उत्पाद की जाएगी। यह बिजली वाणिज्यिक तौर पर इस्तेमाल की जाएगी। एनटीपीसी बरौनी में 250 मेगावॉट बिजली उत्पाद किया जाएगा और नवीनगर में 660 मेगावॉट उत्पाद की जाएगी।

हालांकि, कुछ न कुछ रियायत इन यूनिटों को देने की बात कही गई है। सारी यूनिट पूरी तरह से तैयार है बस सरकार की हां भरने की देरी है। मार्च 2021 में सुपौल में 500 मेगावाट बिजली सोलर पावर के तहत निकाली जाएगी। नवीनगर में इस नवीनगर पावर जेनरेटिग कंपनी लिमिटेड (एनपीजीसीएल) मौजूद है। जिसकी मदद से बिजली पूरा करने का कार्य पूरा किया जाएगा। इन सभी यूनिट को एक-एक करके शुरू किया जाएगा और 2021 के आखिरी तक सारी यूनिट चलती हुई नजर आएंगी जो 900 मेगावाट से ऊपर बिजली का उत्पाद करेंगी।

नवीनगर में चलने वाली इस यूनिट में फिलहाल एक साल की देरी हो चुकी है। यहाँ पर पूरी बिजली का 15% हिस्सा सिक्किम और उत्तर प्रदेश में वितरण किया जाएगा। पूरी बिजली 85% बिजली बिहार को दी जाएगी। बेगूसराय की यूनिट में 250 मेगावाट बिजली का उत्पादन बिहार के लिए किसी सौगात से कम नहीं होगा। बेगुसराय में भी यह तैयारी पूरी की जा चुकी है। बरौनी से अब जल्द ही पूरे बिहार में बिजली पहुंचाई जाएगी। बात करे 15 वर्ष पूर्व तो मात्र 100 मेगावॉट ही बिजली उत्पाद की जाती थी। सन 2018 इसका संचालन ज़िम्मेदारी एनटीपीसी को दी गई है।