सुशील मोदी के घर पहुँच गए थे बिहार के मुख्यमंत्री, दरवाजे पर भाभी बोली आप कौन – आज है जन्मदिन

डेस्क : आज जन नायक कर्पूरी ठाकुर का जन्म दिन हैं अगर आप नहीं जानते की जन नायक कर्पूरी ठाकुर कौन हैं तो आपको बता दें की जन नायक कर्पूरी ठाकुर दिसंबर 1970 से जून 1971 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे हैं। उस वक्त उनकी पार्टी का नाम सोशलिस्ट पार्टी/भारतीय क्रांति दल था। इन्होने बिहार के समस्तीपुर में जन्म लिया था। बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने उनको याद करते हुए कहा की वह जमीन से जुड़े आदमी थे, बिहार का मुख्यमंत्री बनने के बाद भी वह इतने ज्यादा साधारण इंसान थे की कोई कह नहीं सकता था की उनके जैसा भी कोई और व्यक्ति होगा।

वह कहते हैं की पटना विश्वविद्यालय में एक बार जे डी सेठी को कार्यक्रम में शामिल होना था तो सुशील मोदी ने पुछा की वह पटना में किससे मिलना चाहेंगे। उन्होंने बताया की वह जननायक कर्पूरी ठाकुर से मिलना चाहेंगे। फिर सुशील मोदी ने फ़ोन लगाकर बता दिया की जे डी सेठी साहब जननायक कर्पूरी ठाकुर से मिलना चाहते है अगर समय मिले तो हम दोनों को उनसे मिलवा दिया जाए। हम इंतजार करने लगे की आखिर मुख्यमंत्री दफ्तर से कब कॉल आएगी फिर हम 4-5 घंटे तक इंतज़ार करते रह गए।

इसके बाद कर्पूरी ठाकुर सीधा सुशील मोदी जी के घर ही पहुँच गए और उनका दरवाज़ा खटखटाया तब भाभी जी ने दरवाजा खोला और बोली आप कौन हैं और किससे मिलना हैं ? जब वह बोले की मैं कर्पूरी ठाकुर हूँ तो वह भौंचक्की रह गईं। जब वह उनके घर जा रहे थे तो कोई रास्ते में नहीं मिला जिससे वह पूछ सकें की आखिर सुशील मोदी जी का घर कहाँ है। दरअसल 1974 में जे पी आंदोलन में जे डी सेठी का बड़ा योगदान था। हालाँकि, किसी मुख्यमंत्री का किसी के यहां जाना कोई आम बात नहीं थी लेकिन वह आडम्बर वाली जिंदगी जीना पसंद नहीं करते थे।