भारतीय जनता पार्टी ने जदयू को जोर का झटका धीरे से दिया, कुछ भी नहीं बोल पाये नीतीश

न्यूज डेस्क , बेगूसराय : बीजेपी ने नीतीश कुमार की पार्टी को एक बड़ा झटका दिया है। एक बार फिर से नीतीश कुमार को जोर का झटका धीरे से दिया है। आपको बता दे की यह झटका उनको अरुणाचल प्रदेश में लगा है जहां पर जेडीयू के छः विधायकों ने जेडीयू पार्टी को छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया है। फिलहाल अरुणाचल प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार सत्तारूढ़ पार्टी के तौर पर राज कर रही है ऐसे में 6 विधायकों ने जेडीयू पार्टी को धोखा दे दिया है और अब अरुणाचल प्रदेश में सिर्फ एक विधायक जेडीयू पार्टी में बचा है। आपको बता दें कि अरुणाचल प्रदेश में जेडीयू पार्टी इस वक्त भारतीय जनता पार्टी के विपक्ष में खड़ी है।

मीडिया कर्मी ने जब इस बात की चर्चा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से की गई तो उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ भी नहीं है। जिस पर कमेटी बिठा के बैठक की जाए बल्कि या तो आम मसला है। जो कि आसानी से सुलझाया जा सकता है। आपको बता दें कि अरुणाचल प्रदेश में अरुणाचल के विधायकों को पटना में आयोजित होने वाली राष्ट्रीय परिषद की बैठक में शामिल होना था लेकिन इसी बीच जेडीयू के विधायकों ने जेडीयू का साथ छोड़ दिया। साथ ही उन्होंने बीजेपी के अध्यक्ष को पत्र लिखा की वह भाजपा की पार्टी में शामिल होना चाहते हैं। इस वक्त अरुणाचल प्रदेश की सियासी गलियों में सिर्फ एक ही चर्चा हो रही है कि जेडीयू ने भारतीय जनता पार्टी का दामन क्यों थाम लिया। इससे जेडीयू को बहुत बड़ा झटका लगा है, आने वाले 2 दिनों के भीतर एक बड़े स्तर पर मीटिंग बुलाई गई थी जिसमें सभी दलों के नेता एवं विधायक शामिल होने वाले थे लेकिन इस मीटिंग से पहले ही विधायकों का पार्टी बदलना अपने आप में एक ऐसी छाप छोड़ता है जो पार्टी के विरुद्ध है, आपको बता दें कि विधायक दल के नेता इस वक्त पार्टी के साथ ही जुड़े हुए हैं और वही एकमात्र बचे हैं।

लिकाबाली निर्वाचन क्षेत्र से विधायक करदो निग्योर भी भाजपा में शामिल हो गए हैं। बुलेटिन के अनुसार, रमगोंग विधानसभा क्षेत्र से तालीम तबोह, चायांग्ताजो से हेयेंग मंग्फी, ताली से जिकके ताको, कलाक्तंग से दोरजी वांग्दी खर्मा, बोमडिला से डोंगरू सियनग्जू और मारियांग-गेकु निर्वाचन क्षेत्र से कांगगोंग टाकू भाजपा में शामिल हो गए हैं। जैसे ही यह खबर अन्य राज्य की ईपार्टियों तक पहुंची तो उन्होंने भी जवाबी फायर करना शुरू कर दिया। राजद के टि्वटर अकाउंट से जेडीयू के इन 6 विधायकों को बधाई दी गई और कहा गया कि जीडीयू के 6 विधायक बीजेपी में शामिल करा लिए गए हैं। यह बीजेपी की तरफ से नीतीश कुमार को क्रिसमस का गिफ्ट है। ऐसे में इस ट्वीट का रिप्लाई फिलहाल किसी भी जेडीयू पार्टी ने नहीं दिया है साथ ही भारतीय जनता पार्टी के ट्विटर अकाउंट से भी कोई हलचल देखने को नहीं मिली है।