बिहार के इन 8 जिलों में बालू उठाव के टेंडर पर रोक, जानें- क्या है वजह…

Balu

न्यूज डेस्क: बिहार वासियों को कुछ दिन और बालु किल्लत की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। क्योंकि 8 जिलों में खनन पर पूर्णता: रोक लगा दिया गया। इसका मुख्य कारण है कि अधिकारियों द्वारा खनन के लिए टेंडर नही किया जा सका। बता दे की जल्द ही इन 8 जिलों में बालू खनन पर रोक के संबंध में अधिकारियों के साथ बैठक की जाएगी।

इन जिलों में शुरू खनन पर भी पाबंदी:

इस संबंध में खान एवं भू-तत्व विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। आदेश के अनुसार, एक जुलाई से शुरू हुई बालू खनन पर पाबंदी 30 सितंबर को समाप्त होने के बाद भी प्रदेश में बालू का खनन शुरू नहीं हो पाया है। जिन आठ जिलों पटना, भोजपुर, गया, सारण, रोहतास, औरंगाबाद, जमुई और लखीसराय में बालू खनन की प्रक्रिया शुरू की गई थी, वहां भी एनजीटी के आदेश से राज्य सरकार ने एकबार फिर रोक लगा दी है।

इन जिलों में नही हो सका टेंडर:

जिन आठ जिलों नवादा, अरवल, बांका, पश्चिम चंपारण, मधेपुरा, किशनगंज, वैशाली और बक्सर में बालू खनन की हरी झंडी मिल चुकी है, वहां भी टेंडर प्रक्रिया पूरी नहीं हुई है। इस कारण राज्य में बालू खनन पूरी तरह से ठप है। लिहाजा किल्लत और बढ़ेगी। आने वाले दिनों में प्रदेश में चल रहे निर्माण कार्यों पर संकट पैदा हो सकता है।

You cannot copy content of this page