बिहार के पशुपालन विभाग में रखी जाएँगी 2 लाख कोरोना वैक्सीन, 2.25 करोड़ डोज की कुल जरूरत

डेस्क : भारत में कोरोना वैक्सीन की सुगबुगाहट बढ़ गई है। कहा जा रहा है कि जल्द ही भारत के देशवासियों के लिए कोरोना वैक्सीन को भारत के हर एक राज्य के नागरिक को लगाया जाएगा। ऐसे में प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा भी घोषणा करके यह बताया गया है कि जल्द ही कोरोना वैक्सीन के टीके अब लोगों को लगने वाले है। ऐसे में सबसे पहले टीकाकरण उनका किया जाएगा जो लोगों के स्वास्थ्य विभाग से जुड़े लोग हैं जैसे कि डॉक्टर और नर्स।

इसके बाद फिर उन लोगों को टीकाकरण किया जाएगा जिनकी उम्र 60 वर्ष से ज्यादा है और साथ ही उनको जिनको पहले कोरोना वायरस हो चुका है। जो भी सामान्य लोग हैं उनका टीकाकरण सबसे आखरी में किया जाएगा और इनकी उम्र 18 से 40 वर्ष है। भारत विश्व का सबसे बड़ा देश है जिसने कोरोना वैक्सीन के सबसे ज्यादा दोसेज के ऑर्डर दिए हैं

साथ ही आपको बता दें कि अगर 100 करोड़ में से 80 करोड़ लोगों को भी टीका लग जाता है तो भारत हेर्ड कम्युनिटी वाला देश माना जाएगा। जिसको करोना से खतरा नहीं होगा ऐसे में 160 करोड़ दोसेज की मांग बाहर के देशो से की गई है। जिस को पूरा करने के लिए बड़े स्तर पर कोरोना वैक्सीन आएगी और उसको विभिन्न राज्य अपने हिसाब से अस्पतालों एवं स्वास्थ्य विभाग में रखेंगे।

बिहार सरकार के विश्वसनीय सूत्रों की ओर से खबर यह है कि इस वक्त पशुपालन विभाग में करीब दो करोड़ टीकों के रखने की व्यवस्था पर विचार मंथन चल रहा है। इस पर पशुपालन विभाग का कहना है कि उनके पास सिर्फ दो लाख वैक्सीन रखने की जगह शेष है जिसके तहत अब अन्य विभागों का भी साथ मांगा जा रहा है जिससे कि कोरोना वैक्सीन को रखने में मदद हो सके ऐसे में उन इलाकों को भी कोल्ड स्टोरेज में तब्दील किया जाएगा जहां पर इन वैक्सीन को रखा जाएगा।