आज ही कश्मीर में शहीद हुए थे बेगूसराय के लाल पिंटू , शहादत के शौर्य को नमन कर रहे लोग

Pintu Singh

न्यूज डेस्क , बेगूसराय : कर चले हम फिदा जाने तन साथियों अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों , शहीद पिंटू की आज दूसरी शहादत दिवस है। जिला के लाल सीआरपीएफ में इंस्पेक्टर पद पर तैनात शहीद पिंटू एक मार्च को ही आतंकी से लोहा लेते हुए जम्मू कश्मीर में शहीद हो गए थे। बखरी के ध्यानचक्की गाँव में आज शौर्य श्रधांजलि का आयोजन किया गया है। देश उनको नमन कर रहा है।

शहादत को मिला कीर्ति चक्र सम्मान नौ जुलाई 1984 को बखरी के बगरस ध्यानचक्की गांव में एक किसान परिवार में पैदा हुए पिंटू अपने पांच भाईयों में सबसे छोटे थे । बचपन से ही वह अदम्य साहसी और राष्ट्र सेवा कूट कूटकर भरी हुई थी। राष्ट्र कर्तव्य से ओतप्रोत पिटू 2009 में सीआरपीएफ में बतौर इंस्पेक्टर भर्ती हुए थे। एक मार्च 2019 को कश्मीर के हंदवाड़ा में अपनी उसी वीरता और देश कर्तव्य का परिचय देते हुए सीआरपीएफ जवान पिटू ने देश के दुश्मन आतंकियों से डटकर मुकाबला किया और तीन आतंकियों को मौत के घाट उतार दिया। परंतु, सर्च आउट के क्रम में वे आतंकियों की गोली का शिकार हुए तथा देश के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी। पिटू की इसी वीरता को सलाम करते हुए 26 जनवरी 2021 को राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने उन्हें कीर्ति चक्र (मरणोपरांत) से सम्मानित किया ।

You may have missed

You cannot copy content of this page