Friday, July 12, 2024
Begusarai News

बेगूसराय के सरकारी स्कूलों में समर कैंप के माध्यम से सिखाए जा रहे स्वास्थ्य व सफल जीवन के गुर

बेगूसराय जिले के सभी प्रखंडों के सरकारी विद्यालयों में सोमवार से समर कैंप शुरु हो गया है। बछवाड़ा के राजकीय प्राथमिक विद्यालय बेगमसराय अनुसुचित के विद्यालय प्रधान संध्या कुमारी ने बताया कि बिहार शिक्षा परियोजना के निर्देश पर 8 जुलाई तक मिशन लाइफ के लिए विद्यालयों में इको क्लब बनाया जायेगा। बिहार शिक्षा परियोजना परिषद ने सात अलग- अलग थीम पर बच्चों को विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से जागरुक करने के लिए निर्देश दिया है।

इसके तहत लगातार सात दिनों में स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए बच्चों को प्रेरित किया जायेगा। संयुक्त सचिव शिक्षा मंत्रालय, भारत सरकार के पत्र के आलोक में बिहार शिक्षा परियोजना ने 1 से 8 जुलाई की अवधि में समर कैम्प 2024 मिशन लाईफ के लिए इको क्लब के माध्यम से गतिविधियों के क्रियान्वयन के निर्देश दिये हैं। पूर्व में समर कैम्प 2024 मिशन लाईफ के लिए इको क्लब के माध्यम से गतिविधियों का क्रियान्वयन जून, 2024 की अवधि में राज्य के सभी विद्यालयों में कराये जाने का अगला निदेश दिया गया था, परन्तु अत्यधिक गर्मी तथा विद्य लेख बंद रहने के करण अब समर कैम्प 2024 : मिशन के लिए इको क्लब के माध्यम से गतिविधियों का क्रियान्वयन दिनांक 01-08 जुलाई, 2024 की अवधि में कराया जाना है। 7 दिनों के लिए आधारित सुझावित गतिविधियों के आयोजन हेतु विद्यालय प्रधान को निदेशित किया गया है। साथ ही प्रत्येक दिवस को गतिविधियों के आयोजन के उपरांत विद्यालय, प्रखण्ड, जिला स्तर से ऑनलाइन या ऑफलाइन प्रतिवेदन उपलब्ध कराने की कार्रवाई सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है।

बिहार शिक्षा परियोजना परिषद ने मिशन लाइफ के लिए इको क्लब को लेकर सात अलग-अलग गतिविधियां निर्धारित की है। पहले दिन स्वस्थ जीवन शैली अपनाएं दूसरे दिन सतत खाद्य प्रणाली अपनाएं, तीसरे दिन ई कचरा कम करे, चौथा दिन ई कचरा कम फैलाये, पांचवा दिन उर्जा की बचत करे, छठा दिन पानी बचाएं और सातवां दिन सिंगल प्लास्टिक के इस्तेमाल को कहें। इसके तहत स्वस्थ जीवनशैली अपनाने के लिए रोजा अगला ताजे फल, सब्जियां, अनाज और दूध का सेवन करने लेख और जंक फूड तथा मिठाइयों से बचने के महत्व को समझाया जायेगा। साथ ही नियमित रूप से खेलने, दौड़ लगाने या कोई शारीरिक गतिविधि शरीर स्वस्थ और तंदुरुस्त रखने के लिए प्रेरित किया जायेगा। विद्यार्थियों के बीच पोषण संबंधित सीख बढ़ाने में पोषण- वाटिका एक प्रभावी माध्यम बनाया जायेगा।

देखो और सीखों के सिद्धान्त पर आधारित पोषण-वाटिका, शारीरिक और मानसिक विकास में जैविक विधि से उपजाए गए हरी सब्जियों के महत्व की जानकारी दी जायेगी। स्वस्थ जीवनशैली को बढ़ावा देने हेतु गतिविधियों में विद्यार्थियों को पास के किसी प्राकृतिक स्थल का भ्रमण भी विद्यालय की ओर से कराया जायेगा।
स्वस्थ जीवन को बढ़ावा देने हतु गतिविधियों में विद्यार्थियों को पास के किसी प्राकृतिक स्थल का भ्रमण भी विद्यालय की ओर से कराया जायेगा। भ्रमण के दौरान छात्रों को विभिन्न पौधों और जानवरों की पहचान कराई जायेगी। पारिस्थितिकी तंत्र के विभिन्न घटकों में जल स्रोत, मिट्टी, और वनों के बारे में जानकारी दी जायेगी। इस दौरान स्कूल में पोषण वाटिका बनाया जायेगा। पुनर्जीवित किया जायेगा और उसका समुचित प्रबंधन किया जायेगा। सरकारी विद्यालय परिसरों में दी अगला साग-सब्जियों और बागवानी पौधों की ईकाई के रूप लेख पोषण वाटिका स्थापित की जायेगी।