आयुर्वेद में सर्जरी का आदेश मिलने पर निकाली गई धन्यवाद यात्रा

Dhanyabad March

बेगूसराय, 09 दिसम्बर : आयुर्वेद चिकित्सकों को सर्जरी की मान्यता मिलने से चिकित्सकों में हर्ष का माहौल है तथा आयुर्वेद से जुड़े तमाम चिकित्सक भारत सरकार का धन्यवाद दे रहे हैं। इसके लिए बुधवार को बेगूसराय में आयुर्वेद चिकित्सकों ने धन्यवाद मार्च निकाला। राजकीय अयोध्या शिवकुमारी आयुर्वेद महाविद्यालय से निकला धन्यवाद मार्च विभिन्न मार्गों से होते हुए ट्रैफिक चौक पर आकर समाप्त हुआ। मौके पर आयुर्वेद कॉलेज के प्राचार्य डॉ. उमाशंकर चतुर्वेदी ने कहा कि वर्तमान और पुराने, दोनों समय पर आयुर्वेद अपना इतिहास बार-बार दोहराते रहा है।

अभी वर्तमान स्थिति में कोविड-19 प्रकोप है, साल भर से अभी तक एलोपैथ में उसका वैक्सीन तैयार नहीं हुआ और जो वैक्सीन तैयार है वह सक्सेस नहीं है। वहीं, आयुर्वेद की जड़ी बूटियों के द्वारा कोविड-19 का इलाज किया गया और अधिकांश पेशेंट पर पॉजिटिव रिजल्ट मिला। इन सभी उद्देश्यों को देखते हुए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आयुष चिकित्सक को सभी प्रकार का सर्जरी करने की अनुमति मिल गई है। जिसका विरोध आइएमए कर रही है। उस विरोध के खिलाफ आयुर्वेदिक मेडिकल कॉलेज बेगूसराय के छात्र-छात्राएं, प्रोफेसर और बेगूसराय के तमाम चिकित्सकों ने धन्यवाद यात्रा निकाला और आयुर्वेद के प्रति आम लोगों के बीच जागरूकता का संदेश दिया। मौके पर उपस्थित जन अधिकार पार्टी चिकित्सा प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. एस. कुमार ने कहा कि जब हमारी पढ़ाई सामान्य है, वर्किंग टाइम सामान्य है तो हम लोगों को अपना अधिकार क्यों नहीं मिलना चाहिए।

सर्जरी की अनुमति देने के लिए भारत सरकार को धन्यवाद देते हुए उन्होंने आयुष के प्रति लगातार इस तरह के अच्छे कार्य करते रहने की उम्मीद जताई। उन्होंने प्रदेश के सभी आयुष चिकित्सक से अपील किया है कि 11 दिसम्बर को अपने-अपने प्रतिष्ठान में सभी रोगियों का मुफ्त में इलाज करें। मौके पर आमदा के सचिव डॉ. सुशील कुमार, आरबीएस के अध्यक्ष डॉ. रतीश रमन एवं डॉ. जितेन्द्र कुमार समेत अन्य उपस्थित थे।

You cannot copy content of this page