पटना एयरपोर्ट पर कोरोना को लेकर बढ़ा दी गयी है सख्ती, जाने 24 घंटे में राज्य में कितने मिले मरीज़

Patna Airport

डेस्क : पटना हवाई अड्डा प्रशासन द्वारा तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए हवाई यात्रियों की रैंडम जांच की जा रही हैं। हवाई अड्डा में परिवेश करते ही सामने वाले जगह में स्वास्थ्य विभाग के समहू को कोरोना की जांच करने में लगाया गया है। बतादें कि गत दो दिनों से कोरोना जांच की संख्या में बृद्धि की गई है। हवाई अड्डा पर अभी रैंडम कोरोना जांच की जा रही है। मालूम हो कि राज्य में बीते काल यानी रविवार को ग्यारह नये कोरोना मरीज पाए गए है। बिहार के मात्रा 7 जिलों से ही नए संक्रमण की मामले दर्ज की गई है। वहीं राज्य के बाकीं 31 जिलों से एक भी कोरोना संक्रमण के चपेट में आए मरीज़ नहीं मिले।

दरअसल प्रशासन की ओर से कोरोना की तीसरी लहर को मध्यनजर रखते हुए सतर्कता बरती जा रही है। हवाई अड्डा पर कराई के साथ-साथ राज्य से बाहर जा रहे लोगों को ये बताया जा रहा है कि वे जिसभी राज्यों में जा रहे है वहां सफर करते वक्त कोरोना के दिशा निर्देशों का पालन जरूर करें। बतादें कि सभी स्टेट के अपने-अपने नियम कोने के कारण से हवाई यात्र करने वाले लोगों में काफी असमंजस रहती है। इसी वजह से फ्लाइट कंपनियों को यह निर्देश है कि उनके द्वारा उन्ही यात्रियों को ही बोर्डिंग की अनुमति दी जाए जो कोरोना के दिशा निर्देशों का पूरा पालन कर रहे हैं। बतादें कि महाराष्ट्र वाले जितने भी यात्रि हैं उनपर थोड़ी अधिक सख्ती है। एयरपोर्ट कैंपस में सोशल डिस्टनसिंग का पालन तो हो रहा है परंतु फ्लाइट में टिकट कटवाने लके दौरान इसका उलंघन किया जा रहा है। हवाई अड्डा परिसर में बिना मास्क के लोगों आने-जाने की अनुमति नहीं है।

बिहार के 31 जिलों में नहीं मिला एक भी कोरोना संक्रमित मरीज राज्य में 11 नये कोरोना से संक्रमित लोगों की पहचान बीते रविवार की गई। वहीं बिहार के 31 जिलों से एक भी नये कोरोना नहीं मिले हैं। सिर्फ 7 जिलों में ही नये संक्रमितों की पुष्टि की गई है। बतादें की राजधानी पटना में सबसे ज्यादा 3 कोरोना से संक्रमित मरीज़। वहीं पूर्णिया व मधेपुरा में 2-2 मरीज़, भागलपुर, सहित पूर्वी चंपारण, रोहतास और वैशाली में 1-1 नये मरीज़ों की पहचान की गई। पिछले 24 घंटे की बात करें तो मराज्य में 1,67,20 की कोरोना जांच हुई और संक्रमण दर 0 फीसदी रही है। इस बीच दस कोरोना से संक्रमित। मरीज़ ठीक हुए और राज्य में अब ठीक होने की दर 98.65 फीसदी है। इस बीच एक भ मरीज की मृतु नहीं हुई।

कोरोना की पिछले वर्ष से लेकर अभी तक बिहार में 7.25.694 कोरोना से संक्रमित मरीज़ों की पहचान हुई है और जिसमें से 7,15,928 मरीज़ देख रेख और इलाज के बाद ठीक हो गए। बिहार में अभी तक कोरोना से 9653 मरीजों की मौत की पुष्टि की जा चुकी है।

You may have missed

You cannot copy content of this page