स्टेट बॉलीवाल चैंपियनशिप के फाइनल में बेगूसराय पहुंचे खेल मंत्री आलोक रंजन झा, मंझौल में स्टेडियम निर्माण करवाने का किया घोषणा

Alok Ranjan Minister

न्यूज डेस्क : बेगूसराय के शताब्दी मैदान मंझौल में आयोजित तीन दिवसीय राज्यस्तरीय बालक बालिका बॉलीवाल चयन प्रतियोगिता का समापन हुआ । रविवार देर शाम दोनों वर्ग का फाइनल मुकाबला खेला गया। महिला वर्ग के फाइनल मुकाबले में सारण ने भागलपुर को 3- 1 से हराया। इस मौके पर बिहार सरकार के खेल एवं पर्यटन मंत्री आलोक रंजन झा मुख्य अतिथि के तौर पर भाग लिए।

व्यस्ततम कार्यक्रम के वजह से फाइनल मैच खेल रहे खिलाडियों से परिचय कर और सम्बोधन के उपरांत बीच मैच में ही पटना के लिये निकल गए। उन्होंने कुछ देर तक बालिका वर्ग में सारण और भागलपुर के बीच मैच भी देखा। इस दैरान रजनीश कुमार ने बेगूसराय की जनता के तरफ से उनके समक्ष मांगों को रखा। उन्होंने सर्वप्रथम मंझौल की धरती के तमाम शहीदों को श्रद्धांजलि दिया। आगे उन्होंने कहा कि बेगूसराय की धरती खेल की प्रतिभाओं की धरती रही है।

बेगूसराय में लंबे समय तक खेल के विधाओं में वर्षों वर्ष से यहाँ के लोग और नौजवान खेल का आयोजन प्रतिभाओं को तराशने के लिए काम किया है। बेगूसराय की धरती खेल की समृद्ध धरती है। आप मंत्री है आप युवा है। खेल और कला संस्कृति में बहुत कुछ विकास की आशा आपकी ओर जनता देख रहा है। उन्होंने मंझौल के शताब्दी मैदान के बारे में कहा कि यहाँ प्रेक्टिस करते है। उन्होंने लोगों की ओर से शताब्दी मैदान में स्टेडियम के निर्माण का मांग किया । साथ ही बेगूसराय को बिहार का खेल केंद्र बनाने का प्रयास हो । बेगूसराय में स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स की मांग को भी रखा ।

चेरिया बरियारपुर के विधायक राजवंशी महतो ने चेरियाबरियारपुर विधानसभा की जनता की ओर से मंत्री समेत सभी लोगों का अभिभादन किया । उन्होंने भी कहा कि रजनीश जी की बातों को मैं समर्थन करता हूं। उन्होंने भी खेल के विकास में मांग को दोहराया । अंत में बिहार सरकार के मंत्री आलोक रंजन झा ने अपने सम्बोधन में कहा कि राज्यस्तरीय बालक बालिका डे नाइट बॉलीवाल प्रतियोगिता के अवसर पर जलेवार सेवा समिति को आयोजन के लिए धन्यवाद कहा । उन्होंने मंझौल धरती को नमन करता हूँ ।

जहां की धरती ने कई लाल पैदा किया है जहां से देश के लिए शहादत दिया । यहां का दृश्य देखकर कहा कि बेगूसराय की धरती खिलाड़ियों और खेलप्रेमियों की धरती है। इस आयोजन में जिसमें विभिन्न जिलों से आये हुए सभी खिलाड़ियों को बेहतरीन मौका प्रदान करने के लिए आयोजन समिति के प्रति आभार प्रकट किया । खेल जीवन का महत्वपूर्ण अंग है। खेल ही वैसा जगह है जहां अनुशासन होता है। खेल में कोई जात पात धर्म नहीं होता है। सब खिलाड़ी होते है। लोगों को खेल से प्रेरणा लेना चाहिए। यहां बैठे जो माहौल देख रहे हैं। यह खेल दस बजे तक चलेगा । हमे पटना जाना था इसीलिए हमने आयोजन समिति से आग्रह किया कि हमे दो शब्द बोल लेने दीजिये। उन्होंने स्टेडियम की बात पर कहा कि हमको लेटर पेड पर लिख कर दें । मैं यहां स्टेडियम बनाने का काम करूंगा । उन्होंने बेगूसराय में स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स को स्थापना कि बात पूछने पर कहा कि इसके लिए प्रक्रियाएं की जाएगी ।

दोनों ही वर्ग में सारण और भागलपुर की टीम पहुंची फाइनल में : बालक वर्ग में पहला सेमीफाइनल नालन्दा और भागलपुर के बीच हुई । जिसमें भागलपुर ने 3 – 1 से जीत दर्ज की । वहीं दूसरा सेमीफाइनल समस्तीपुर और सारण के बीच हुई जिसमें सारण ने 3 – 2 से जीत दर्ज कर फाइनल में प्रवेश किया । बालिका वर्ग में पहला सेमीफाइनल बांका और सारण की टीम के बीच खेला गया जिसमें सारण ने 3 – 1 से जीत दर्ज की । वहीं दूसरा सेमीफाइनल भागलपुर और वैशाली के बीच हुआ जिसमें भागलपुर ने 3 -2 से जीत दर्ज कर फाइनल में कदम रखा । इस स्टेट बॉलीबाल चैंपियनशिप में दर्शकों का उत्साह भी चरम पर पहुंच गया था जब दोनों ही वर्ग के सेमीफाइनल मुकाबले में कांटे की टक्कर हुई ।

You cannot copy content of this page