पत्नी के जाने का गम बर्दाश्त न कर सके बेगूसराय के भगवान महतो दुनिया को कहा अलविदा

Bhagwan Mahto

न्यूज डेस्क : शादी के समय अग्नि को मानकर सात फेरे लेने के समय पति और पत्नी सात जन्मों तक साथ जीने मरने की कसमें खाते हैं। लेकिन कम ऐसे खुशनसीब दम्पति होते हैं जिन्हें ये सौभाग्य प्राप्त होता है। ऐसा ही एक घटना बेगूसराय में सामने आया है। बेगूसराय के खोदाबन्दपुर प्रखण्ड के खोदावंदपुर पंचायत अंतर्गत मुसहरी गांव में एक बुजुर्ग दंपत्ति ने यह वादा निभाया है ।

बताते चलें कि कुछ दिनों पहले पत्नी की मौत का गम पति बर्दाश्त नहीं कर सका । उसने भी अपनी पत्नी के वियोग में प्राण त्याग दिया । मिली जानकारी के अनुसार मुसहरी निवासी भगवान महतो की 55 वर्षीया पत्नी तेतरी देवी की मृत्यु ग्यारह दिन पूर्व हुई थी, अभी श्राद्ध कर्म होना बाकी ही था । कि पत्नी की मौत के नवमें दिन 60 वर्षीय भगवान महतो भी इस निर्मोही दुनिया को अलविदा कह दिये । कम अंतराल में पति और पत्नी का इस दुनिया से चला जाना क्षेत्र में लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गया है। लोग के जवान पर साथ जीने मरने की वादा पूरा किये जाने की चर्चा चल रही है।

You may have missed

You cannot copy content of this page