बेगूसराय के जीडी कॉलेज को विश्वविद्यालय बनाये जाने की प्रक्रिया होगी शुरू , महामहिम राज्यपाल ने LNMU के वीसी को लिखा पत्र

न्यूज डेस्क, बेगूसराय : बिहार के औद्योगिक राजधानी बेगूसराय में कोई भी विश्वविद्यालय का ना होना यहां के युवाओं को बहुत खलता है. बता दें कि जिले में करीब 30 लाख की आबादी है हर साल हजारों की संख्या में छात्र इंटर पास कर रहे हैं परंतु चंद डिग्री कॉलेज के भरोसे उनकी उच्च शिक्षा जारी है. इस दौरान कई छात्र-छात्राएं ऐसे भी होते हैं जो महंगी और सुलभ शिक्षा ना होने के कारण उच्च शिक्षा से वंचित हो जा रहे हैं. खासकर ऐसे छात्रों में छात्राएं बहुत शामिल है.

जहां एक तरफ बिहार सरकार के द्वारा महिला शिक्षा उत्थान को लेकर तरह तरह के कार्यक्रम किए जा रहे हैं प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था की बेहतरी के लिए नई-नई योजनाएं लाई जा रही है वहीं बेगूसराय में सालों से उठ रही मांग विश्वविद्यालय स्थापना की दिशा में अब तक कोई  भी सकारात्मक पहल नहीं दिख रहा है। हालांकि इस दौरान बेगूसराय के छात्र युवा नेता छात्र संगठन के लोग और यहां के जनप्रतिनिधि सहित कई समाजसेवियों ने इस दिशा में लगातार अपने प्रयास जारी रखा है । पिछले दिनों से यह मांग अब और भी मुखर होने लगा है .

बेगूसराय से लेकर दिल्ली तक इसके लिए सार्थक प्रयास किए जा रहे हैं. इसी प्रयास के प्रतिफल में बिहार के महामहिम राज्यपाल ने ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर को पत्र लिखकर यह निर्देशित किया है कि जीडी कॉलेज को विश्वविद्यालय बनाएं जाने की प्रक्रिया शुरू की जाए. मिली जानकारी के अनुसार महामहिम राज्यपाल ने यह निर्देश वरिष्ठ समाजसेवी व जन समग्र स्वास्थ्य फाउंडेशन के सचिव अजय कुमार की मांग पर संज्ञान लेते हुए जारी गया है।

इस बात की जानकारी मिलने पर बेगूसराय में विश्वविद्यालय की मांग को तमाम लोगों ने खुशी जाहिर की है। वही #बेगूसराय वांटस दिनकर यूनीवर्सिटी की टीम ने भी अजय कुमार के इस प्रयास को सराहा है । टीम से जुड़े हुए सदस्य सौरभ सिप्पी ने कहा कि ” करत करत अभ्यास ते जड़मति होत सुजान रसरी आवत जात ते सिल पर परत निशान ” एक न एक दिन बेगूसराय के छात्रों की मांग पर सरकार को झुकना पड़ेगा और जिले में दिनकर विश्वविद्यालय की स्थापना की जाएगी. हम लोगों का संघर्ष विगत कई सालों से जारी है और आने वाले सालों में भी जारी रहेगा ।