बेगूसराय में खोदाबन्दपुर थाने की पुलिस को है बलिया थाना के दारोगा का तलाश

Begusarai Police

न्यूज डेस्क : बेगूसराय के खोदावंदपुर प्रखंड के चर्चित संगीता देवी हत्याकांड में आरोपित तत्कालीन मंझौल ओपीध्यक्ष तथा वर्तमान में बलिया थाना में पदस्थापित दारोगा राजकुमार एवं उनकी आरक्षी पत्नी हेनु कुमारी को गिरफ्तार करने का आदेश पुलिस अधीक्षक बेगूसराय ने अनुसंधानक को दिया है। एसपी कार्यालय से गिरफ्तारी के आदेश का भनक लगते ही दारोगा राजकुमार सिंह मेडिकल का आवेदन देकर एवं उनकी आरक्षी पत्नी हेनु कुमारी फरार बताये जा रहे हैं। पुलिस उनका सरगर्मी से तलाश कर रही है।

ये है मामला बताते चले कि वर्ष 2019 के सावन माह पूर्णिमा के दिन मटिहानी थाना के पान गाछी के समीप सड़क किनारे गढ्ढा से एक अज्ञात महिला का शव बरामद किया गया था। पुलिस द्वारा जांच के क्रम में उक्त शव खोदावंदपुर थाना के मेघौल निवासी अवकाश प्राप्त सैनिक राम सुखित सिंह के पुत्र अभिषेक कुमार की पत्नी संगीता कुमारी के रुप में किया गया था। इस मामले में मृतका के पिता नावकोठी थाना क्षेत्र के पहसारा निवासी बलभद्र सिंह ने मृतका के पति अभिषेक कुमार, पिता राम सुखित सिंह, माता रामकुमारी देवी, मृतक संगीता के ननद हेनु कुमारी, जो बिहार पुलिस में कार्यरत हैं तथा ननदोई व तत्कालीन मंझौल ओपीध्यक्ष राजकुमार सिंह के विरुद्ध हत्या का नामजद प्राथमिकी खोदावंदपुर थाना कांड संख्या- 165/2019 दर्ज कराया था।

खोदावंदपुर पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए मृतका के पति अभिषेक कुमार व ससुर राम सुखित सिंह को गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया था। प्राथमिकी दर्ज होने के पश्चात पुलिस अधीक्षक बेगूसराय ने इस कांड के आरोपी तथा तत्कालीन मंझौल ओपीध्यक्ष राजकुमार सिंह का स्थानांतरण बलिया थाना में एसआई के पद पर कर दिया था। पुलिस जांच एवं वरीय पुलिस पदाधिकारी के पर्यवेक्षण के पश्चात इस कांड में आरोपी एसआई राजकुमार सिंह तथा उनकी आरक्षी पत्नी हेनु कुमारी तथा मृतका की सांस रामकुमारी देवी को किलिन चीट दे दिया था। तथा मृतका के पति अभिषेक कुमार एवं ससुर राम सुखित सिंह को दोषी सिद्ध किया था। इस कांड में संगीता के ससुर माननीय उच्च न्यायालय से जमानत पर हैं, जबकि पति अभिषेक आज भी जेल में बंद है।

पुलिस जांच से असंतुष्ट होने पर वरीय अधिकारियों से लगाई थी न्याय की गुहार इस मामले में पुलिस द्वारा आरोपी एसआई राजकुमार सिंह तथा उनकी पत्नी हेनु कुमारी तथा सास रामकुमारी देवी को किलिन चिट दिये जाने से सूचक बलभद्र सिंह ने पुलिस पदाधिकारी पर आरोपी के पक्ष में काम करने तथा जांच में धांधली करते हुए निष्पक्ष जांच नहीं करने का आरोप लगाते हुए न्याय के लिये एडीजी और डीजी मुख्यालय से गुहार लगाया।

वरीय पदाधिकारियों द्वारा जांचोपरांत इस कांड में बड़ी किये गये आरोपी दारोगा राजकुमार सिंह एवं उनकी आरक्षी पत्नी हेनु कुमारी तथा इनके सास रामकुमारी देवी के विरुद्ध भी आरोप सत्य पाया, तब बेगूसराय पुलिस अधीक्षक को इन्हें भी गिरफ्तार करने का आदेश दिया। वरीय अधिकारी के आदेश के आलोक में पुलिस अधीक्षक बेगूसराय ने भी अपने ज्ञापांक 2013/सीआर, दिनांक 19-03-2021 को निर्गत आदेश चार में इस कांड के नामजद सभी अभियुक्तों को गिरफ्तार करने तथा कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं पर जांच करने का आदेश अनुसंधानक को दिया है।

क्या कहते हैं थानाध्यक्ष खोदाबन्दपुर इस आदेश की पुष्टि करते हुए थानाध्यक्ष दिनेश कुमार ने बताया कि प्राप्त निर्देश के आलोक में निदेशित बिंदुओं पर गहराई से अनुसंधान किया जा रहा है तथा इस कांड के शेष बचे अभियुक्तों के गिरफ्तारी के लिये लगातार छापामारी किया जा रहा है।

You may have missed

You cannot copy content of this page