बिहार में हसनपुर से बरौनी के बीच बिछेगी नई रेल लाइन, 1439 करोड़ ₹ खर्च होने के अनुमान, समस्तीपुर बेगूसराय के लिए बहुत अच्छी ख़बर

Samastipur Hasanpur Begusarai

न्यूज डेस्क : 1970 के दशक में तत्कालीन रेल मंत्री ललित नारायण ने एक सपना देखा था, कि बरौनी से जयमंगला गढ़ होते हुए हसनपुर तक रेल लाइन बने। बता दें कि जल्द ही यह सपना साकार होने वाला है। क्योंकि, बरौनी-हसनपुर के बीच 45.38 किलोमीटर (KM) लंबी नई रेललाइन के सर्वे का कार्य पूरा हो गया है। अब वह दिन भी दूर नहीं जब बेगूसराय वासी बरौनी, भगवानपुर, मंझौल, गढ़पुरा होते हुए हसनपुर तक रेलगाड़ी से यात्रा कर सकें। बताते चलें कि इस रेल परियोजना पर करीब 1439 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान है।

परियोजना की आरआईसीटी सर्वे रिपोर्ट सौंपने वाली इलाईट नामक कंपनी के इंजीनियरों ने बरौनी से हसनपुर के बीच 7 स्टेशन के अलावा एक हॉल्ट का प्रस्ताव दिया है। जानकारी के लिए बता दें कि इस रेलखंड पर कहीं भी रेलवे गुमटी का प्रस्ताव नहीं है। रेलवे गुमटी के स्थान पर सबवे व आरओबी का प्रस्ताव है। सर्वे का कार्य कंपनी ने 15 इंजीनियरों ने तीन वर्षों में यह कार्य को पूरा किया है। रेल लाईन शुरू होने से बेगूसराय- समस्तीपुर जिला वासियों को यात्रा करने में काफी सहूलियत मिलेगी। पहले जहां यात्रियों को बस से यात्रा करने में चार-पांच घंटे लगते थे, लेकिन रेलवे लाइन शुरू होने से हसनपुर से बरौनी तकरीबन 40-50 मिनट में पहुंचा जा सकेगा।

इस रेलखंड पर 7 नए स्टेशन व 1 हॉल्ट तथा 43 रेल पुल बनाए जाएंगे: रेलवे की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक, 45.38 किलोमीटर (KM) के इस रेलखंड के बीच हसनपुर के अलावा गढ़पुरा बाजार, जयमंगलाघाट, मझौल, चेरियाबरियापुर, भगवानपुर दहिया, गौरा तियाय व बरौनी को क्रासिंग स्टेशन व मंझौल को रेलवे हॉल्ट बनाया गया है। जबकि हसनपुर व बरौनी को जंक्शन बनाया गया है। रेलवे स्टेशनों के बीच 7-8 किलोमीटर की दूरी रखी गई है। इसके साथ ही इस रेल खंड में पांच बड़े पुलों के अलावा 38 छोटे पुलों का निर्माण कराया जाएगा। रेलवे गुमटी के बदले 20 सबवे व दो रोड ओवर ब्रिज का निर्माण होगा।

You cannot copy content of this page