बेगूसराय में पत्रकार की गोली मारकर हत्या

subash kumar

बेगूसराय: बखरी परिहारा ओपी थाना क्षेत्र के बहुआरा साखू गांव निवासी बेगूसराय स्थानीय सिटी न्यूज़ चैनल के एक पत्रकार को अपराधियों ने गोली मारकर शुक्रवार की रात्रि 8:00 में हत्या कर दी है। मृतक पत्रकार की पहचान साखू गांव के सुभाष कुमार के रूप में की गई है।घटना के बारे में बताया जाता है कि पत्रकार सुभाष कुमार अपने गांव में ही अपने परिजनों के साथ भोज खाकर घर लौट रहा था। इसी बीच पत्रकार की हत्या करने के लिए पहले से घात लगाकर बैठे हथियारबंद दो अपराधियों ने उनके आते ही गोली चलाना शुरु कर दिया पत्रकार को एक गोली उसके सिर में और दूसरी गोली शरीर के दूसरे भाग में लगी। गंभीर रूप से घायल पत्रकार को बखरी पीएससी उठाकर घर के लोगो ने इलाज के लिए लाया। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

मृत घोषित करने के बाद घर के परिजनों में कोहराम मच गया! पत्रकार की हत्या की खबर पूरे जिला भर में सभी पत्रकारों के बीच जंगल में आग लगने की तरफ फैल गई।सभी पत्रकारों ने इस घटना की घोर निंदा की है ,और सीएम नीतीश कुमार को असली सुशासन बाबू की संज्ञा दी है। सभी पत्रकारों ने एक स्वर से कहा कि अपराधी बेगूसराय में बिल्कुल बेलगाम हो चुके हैं। आए दिन लगातार लोगों की हत्या करने से बाज अपराधी नहीं आ रहे हैं। जिला में अब ना कोई व्यवसायी, ध पत्रकार और ना ही आम लोग जिले के सुरक्षित है! इस तरह से पत्रकार की खुले आम अपराधियों के द्वारा हत्या करना ,जिला के पुलिस प्रशासन को सीधे कटघरे में खड़ा कर दी है।पुलिस को लगातार अपराधी जिले में खुली चुनौती देने से बाज नहीं आ रहे हैं ।पुलिस अपराधियों के सामने बौना साबित हो रही है।

ये भी पढ़ें   खुशखबरी! वर्ल्ड क्लास सुविधाओं से लैस होगा पूर्व मध्य रेल के बेगूसराय- बरौनी सहित 12 स्टेशन -जानें क्या है अपडेट

सिटी न्यूज़ चैनल के संपादक सुमित ने कहा कि मेरे चैनल का एक अच्छा साथी हमारे बीच से चला गया है। मै हत्या की खबर सुनने के बाद काफी मर्माहत हूं ,सबसे पहले मैं उनके मृत आत्मा की शांति के लिए भगवान से प्रार्थना करता हूं, कि उन्हें शांति प्रदान करे। उन्होंने कहा कि पत्रकारों की हत्या करना लोकतंत्र की हत्या है। नीतीश कुमार की सरकार सिर्फ सुशासन बालू की सरकार अपने को बताती है।लेकिन लगातार अपराधियों के द्वारा खुलेआम हत्या का यह सिलसिला जारी है।पुलिस प्रशासन के अधिकारी अपराधियों की गिरफ्तारी शीघ्र नहीं करती है ,तो जिले भर के सभी पत्रकार एकजुट होकर उग्र आंदोलन करने के लिए जिला प्रशासन के खिलाफ बाध्य होंगे।