बेगूसराय पुलिस के परफॉर्मेंस रिपोर्ट में मुफसिल थाना का सबसे बेहतर तो मंझौल ओपी की रिपोर्ट ने खोल दी है बड़े दावे की पोल

न्यूज डेस्क , बेगूसराय : पुलिस विभाग द्वारा जारी परफारमेंस रिपोर्ट ने विभिन्न थाना में कार्यरत रहकर बड़े-बड़े दावे करने वाले पुलिस पदाधिकारियों की पोल खोल दी है। सबसे खराब स्थिति मंझौल क्षेत्र की है तथा यह तमाम पायदान में काफी पीछे चल रहा है। रिपोर्ट स्पष्ट बता रहा है कि वह चाहे जितने दावे कर लें, लेकिन उनकी कार्यप्रणाली बहुत सुस्त है। इसका खुलासा एसपी द्वारा जिले के सभी 36 थाना एवं ओपी के जारी किए गए ओवरऑल परफारमेंस रिपोर्ट में हुआ है।

इस रिपोर्ट के आधार अनुसार ओवरऑल परफारमेंस में मुफस्सिल थाना प्रथम स्थान पर, नीमा चांदपुरा थाना दूसरे स्थान पर, तेघड़ा थाना तीसरे स्थान पर और मंझौल ओपी सबसे अंतिम पायदान 36 वें स्थान पर है। अगर लॉ एंड ऑर्डर की हो तो बखरी थाना पहले स्थान पर, सिंघौल ओपी दूसरे स्थान पर, डंडारी थाना तीसरे स्थान पर है। जबकि गढ़पुरा 32 वें, नावकोठी के 33 वें और लाखों 34 वें गई स्थान पर है। क्रिमिनल के विरुद्ध एक्शन में तेघड़ा थाना पहले स्थान पर, वीरपुर थाना दूसरे स्थान पर, नावकोठी थाना तीसरे स्थान पर और लाखो ओपी सबसे फिसड्डी साबित होते हुए 36 वें स्थान पर है।

पीएस रिकॉर्ड के मामले में चकिया ओपी पहले स्थान पर, मुफस्सिल थाना दूसरे स्थान पर, नीमा चांदपुरा थाना तीसरे स्थान पर और गढ़हरा ओपी सबसे अंतिम 36 वें स्थान पर है। वारदातों के उद्भेदन में मुफस्सिल थाना पहले स्थान पर, लाखो ओपी दूसरे स्थान, रतनपुर ओपी तीसरे स्थान तथा फुलवरिया थाना सबसे अंतिम 34 वें पायदान पर है। केस डिस्पोजल के मामले में मटिहानी थाना पहले स्थान पर, तेघड़ा थाना दूसरे स्थान पर, वीरपुर तीसरे स्थान तथा मंझौल ओपी सबसे अंतिम 36 वें स्थान पर है। प्रोबेशन के मामले में मुफस्सिल थाना पहले स्थान, नीमा चांदपुरा दूसरे स्थान, बखरी थाना तीसरे स्थान और मंझौल ओपी सबसे अंतिम 34 वें स्थान पर है। अनुमंडल वार रैंकिंग में सदर अनुमंडल पहले स्थान पर, बखरी दूसरे स्थान पर, तेघड़ा तीसरे स्थान पर, बलिया चौथे स्थान पर और मंझौल पांचवें स्थान पर है।

सर्किल वाइज रैंकिंग में तेघड़ा पीएस पहले स्थान पर, मुफस्सिल दूसरे स्थान पर, बरौनी तीसरे स्थान पर एवं बरौनी पीएस सबसे अंतिम 12 वें स्थान पर है। कुल मिलाकर रिपोर्ट से यह स्पष्ट है कि बेगूसराय में बड़े-बड़े दावे करने वाले थाना में पदस्थापित पुलिस पदाधिकारियों को अभी अपने कार्यप्रणाली में सुधार लाने की बहुत ही जरूरत है।