बेगूसराय में कोविड संक्रमण से मृत व्यक्तियों के आश्रितों को अनुदान दिए जाने की प्रक्रिया हुई तेज

Covid

न्यूज डेस्क : बेगूसराय में कोरोनाकाल में असमय मौत के शिकार हुए लोगों के आश्रितों को सरकारी नियमानुसार मुआवजा देने की प्रक्रिया की जा रही है। कई प्रखण्ड में तो इतने दिनों से निर्धन मृतक के आश्रित मुआवजा के इंतजार में ऑफिस टू ऑफिस चक्कर लगाने के बाद हतोत्साहित होकर थक हारकर घर बैठ गए। जिला पदाधिकारी ने समीक्षा के क्रम में सभी अनुमंडल पदाधिकारियों एवं अंचलाधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा है कोविड संक्रमण से मृत व्यक्तियों के आश्रितों को मिलने वाले अनुदान हेतु आवश्यक अभिलेख अविलंब जिला कार्यालय को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करें ताकि भुगतान की प्रक्रिया सुनिश्चित हो सके।

इसी प्रकार सभी अंचलाधिकारियों को विगत दिनों गंगा नदी के जलस्तर में वृद्धि के कारण प्रभावित सभी पात्र व्यक्तियों की जीआर भुगतान पूर्व सभी आवश्यक प्रक्रिया पूर्ण करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि अनुदान भुगतान संबंधी समालों की लगातार उच्चस्तर से समीक्षा की जाती है अतः लंबित मामलों का यथाशीघ्र निष्पादन करना सुनिश्चित करें। इसको लेकर बेगूसराय के जिला पदाधिकारी अरविंद वर्मा ने जिले में कोविड संक्रमण से मृत व्यक्तियों से संबंधित अभिलेखों की स्थिति की प्रखंडवार समीक्षा किया । इस क्रम में उन्होंने कहा कि प्रभारी पदाधिकारी, आपदा शाखा द्वारा बताया गया कि सिविल सर्जन, बेगूसराय द्वारा जिले में कोरोना संक्रमण से अब तक मृत कुल 387 व्यक्तियों की सूची उपलब्ध कराई गई हैं, जिसके संबंध में आवश्यक अभिलेख उपलब्ध कराने हेतु अंचलाधिकारियों को निर्देशित किया गया है।

अद्यतन प्रतिवेदन के अनुसार, वर्तमान में अचलाधिकारियों द्वारा कुल 219 अभिलेख संबंधित अनुमंडल कार्यालयों में आवश्यक जांच / सत्यापन हेतु भेजा गया है जिसमें से जिलास्तर पर कुल 85 अभिलेख प्राप्त हुए हैं जिसमें से कुल 57 आश्रितों को निर्धारित अनुदान राशि का भुगतान कर दिया गया है। इसी प्रकार, बाढ़ से प्रभावित व्यक्तियों को भुगतान किए जाने वाले जीआर की समीक्षा के क्रम में बताया गया कि प्रभावित आठ अंचलों द्वारा अब तक कुल 35,173 बाढ़ प्रभावितों व्यक्तियों की अनुशंसा की गई है जिसमें से 19,694 व्यक्तियों का डेटा जिला कार्यालय को उपलब्ध होने के उपरांत उसे भुगतान संबंधी अग्रेत्तर कार्रवाई के लिए राज्य कार्यालय को उपलब्ध करा दिया गया है।

You may have missed

You cannot copy content of this page