बेगूसराय समाहरणालय पर बीहट नगर परिषद विस्तारीकरण के विरोध में सैकड़ों ग्रामीणों ने दिया धरना

Dharna Bihat

बेगूसराय : बीहट नगर परिषद का विस्तारीकरण कर इसमें नए गांव को जोड़ने का विरोध काफी तेज हो गया है। शनिवार को सिमरिया पंचायत-एक, पंचायत-दो, अमरपुर, मल्हीपुर उत्तरी, मल्हीपुर दक्षिणी, हाजीपुर, पिपरा देवस एवं मोसादपुर के सैकड़ों लोगों ने समाहरणालय के दक्षिणी गेट पर धरना देकर इसका जबरदस्त विरोध किया।

धरना दे रहे प्रखंड प्रमुख सोनी देवी समेत अन्य लोगों का कहना था कि गंगा कटाव से पीड़ित होकर सरकार द्वारा पुनर्वास किए गए लोगों को भी नगर परिषद में शामिल किया जा रहा है। जहां कि 80 प्रतिशत आबादी कृषि कार्य पर आधारित है। कृषि ही इनके जिविका और आय का स्रोत है, लेकिन गलत परिसीमन कर इसे नगर परिषद में शामिल किया जा रहा है। जबकि 25 मई 2020 को ही बरौनी के प्रखंड विकास पदाधिकारी द्वारा जिला पंचायती राज पदाधिकारी को स्पष्ट रूप से बता दिया गया था कि बरौनी प्रखंड अंतर्गत कोई भी पंचायत नगर निकाय में शामिल होने की योग्यता नहीं रखता है।

इसके बावजूद क्षेत्र विस्तार कर गांव की आबादी को शामिल किया जा रहा है। गंगा के उत्तरी पूर्वी तट पर बसा यह क्षेत्र रेल तथा सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ नहीं है, आवागमन का उचित साधन नहीं है। भौतिक सुविधाओं से काफी दूर है, उच्च स्तरीय शिक्षा, चिकित्सा, खेल के मैदान, बाजार, उद्योग-धंधा और जल निकासी का अभाव है। एनएच से सात-आठ किलोमीटर की दूरी वाले क्षेत्र को भी नगर परिषद में शामिल कर लोगों के साथ अन्याय किया जा रहा है। इस परिसीमन को तुरंत रद्द कर गांव को बचाया जाना चाहिए, क्योंकि भारत शहर नहीं गांवों का देश है।

You cannot copy content of this page