बेगूसराय में ब्वॉयफ्रेंड से शादी रचा कर कोर्ट पहुंची प्रेमिका, प्रेमी हुआ फरार अब घरवाले भी रखने से कर रहे इनकार

Boyfriend

न्यूज डेस्क : जिले में आए दिन प्रेम प्रसंग के अनोखे मामले सामने आते रहते हैं। लेकिन, इसी बीच आप लोगों को एक ऐसी प्रेम-प्रसंग का मामला बताने जा रहे है, जिसे जान आप भी दंग रह जाएंगे, सोशल मीडिया पर ट्रेडिंग सॉन्ग “बचपन का प्यार मेरा भूल नही जाना रे” ये वाला सॉन्ग तो आप लोगों ने जरूर सुना होगा। कुछ इसी प्रकार का दिलचस्प वाला मामला बेगूसराय जिले के छौड़ाही प्रखंड से आया। तो चलिए बिना किसी देरी के आपको पूरा माजरा समझाते हैं।

दरअसल, छौड़ाही के ओपी क्षेत्र के अमारी पंचायत अंतर्गत पीरनगर गांव निवासी पवन दास की बेटी सविता कुमारी अब अपने 12 वर्ष पुराने ब्वायफ्रेंड के साथ रहना चाहती है। लेकिन उसका आरोप है कि उसके पिता ने ही उसके पति (प्रेमी) पर अपहरण का केस करा दिया। जबकि प्रेमिका सविता कुमारी का कहना है कि केस दर्ज होने के बाद मेरे पति (प्रेमी) भागे-भागे फिर रहे हैं। प्रेमी के फरार होने के बाद अब लड़की के घर वाले भी उसे रखने को तैयारी नहीं हैं। घर वालों की नाराजगी और प्रेमी के फरार होने के बाद प्रेमिका को अब कोर्ट से न्याय की उम्मीद है।  बताते चलें कि प्रेमिका सविता कुमारी अपने सामने के घर वाले राम दास से करीब 12 वर्षों से बेपनाह मोहब्बत करती है। इसी बीच 24 अप्रैल को सविता अपने ब्वायफ्रेंड से मिलने दिल्ली चली गई। सविता कुमारी का कहना है की उसने अपने प्रेमी राम दास से शादी कर ली और वे दोनों खुशी-खुशी अपनी जिंदगी जी रह रहे है, बता दें कि इस मामले को लेकर गांव में पंचायत भी बैठी।

जिसमें पंचायत ने प्रेमिका सविता कुमारी के प्रेमी रामदास और उनके माता-पिता पर जुर्माने का फरमान सुनाया। उसके बावजूद भी सविता और राम दास सकुन की जिंदगी जी रहे थे। सविता का कहना है कि घटना के चार महीने बाद अगस्त में उसके पिता ने पति (प्रेमी) राम दयाल दास और उसके परिवार पर छौड़ाही ओपी में अपहरण की प्राथमिकी दर्ज करा दी।जिसकी जानकारी होने पर वह डीएसपी मंझौल के समक्ष शनिवार को हाजिर हुई। जहां सविता ने उक्त बातें डीएसपी महोदय को बताई। सविता ने बताया कि डीएसपी साहब ने छौड़ाही पुलिस को सूचना दें न्यायालय में हमारा बयान दर्ज करवाया। न्यायालय में हमने उक्त बात बताते हुए अपने माता पिता के पास जाने की इच्छा प्रकट की। न्यायालय ने उसे माता पिता के पास पहुंचाने का आदेश छौड़ाही पुलिस को दिया।

माता पिता ने रखने से किया इंकार: न्यायालय के आदेश पर रविवार दोपहर छौड़ाही पुलिस के एएसआई एके ओझा के नेतृत्व में पुलिस बल सविता को लेकर पीरनगर उसके माता-पिता के घर पहुंची। सविता के पिता पवन दास एवं उसके स्वजनों ने पुलिस को दिए लिखित बयान में कहा कि उसकी पुत्री अपने मन से घर से भाग गई थी। अब उसे घर में रखेंगे और कुछ अनहोनी हो जाएगा तो उसकी जिम्मेदारी कौन लेगा। इसलिए हम इसे नहीं रखेंगे। सविता ने लाख आरजू मिन्नत की, संबंध ठीक करने की दुहाई दी लेकिन इसका कोई असर उसके माता-पिता पर नहीं हुआ।

इस मामले में पुलिस ने बताया: इस संदर्भ में छौड़ाही ओपी के एएसआई एके ओझा ने बताया कि न्यायालय के आदेश की तामील कराने आए थे। सविता के माता-पिता किसी कीमत पर इसे रखने को तैयार नहीं है। पुनः न्यायालय ले जा रहे हैं। वहां से जो आदेश होगा वह किया जाएगा।

You cannot copy content of this page