किसान मेला सह प्रदर्शनी का डीएम ने किया उद्घाटन , कृषि विशेषज्ञों द्वारा हुआ तकनीकी परिचर्चा

न्यूज डेस्क , बेगूसराय : जिला पदाधिकारी अरविन्द कुमार वर्मा द्वारा शुक्रवार जिला कृषि कार्यालय परिसर, विष्णुपुर, बेगूसराय में दो दिवसीय किसान मेला-सह-प्रदर्शनी का उदघाटन किया गया। कार्यक्रम के उद्घाटन के उपरांत जिला पदाधिकारी ने कार्यक्रम में मौजूद किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि जिला कृषि कार्यालय, बेगूसराय द्वारा आयोजित दो-दिवसीय किसान मेला-सह-प्रदर्शनी जिले के किसानों को कृषि एवं संबंधित क्षेत्रों में नवीनतम तकनीकों के समावेशन की जानकारी देने के उद्देश्य से काफी महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा कृषि क्षेत्र विभिन्न समकालीन चुनौतियों यथा मृद्धा स्वास्थ्य का क्षरण, जल छाजन, भू-जल स्तर में गिरावट, उत्पादन एवं उत्पादकता में कमी आदि का सामना कर रहा है। इसके अतिरिक्त संभावित जलवायु परिवर्तन का असर पर कृषि के विभिन्न क्षेत्रों में स्पष्ट रूप से परिलक्षित रहा है। इसलिए आवश्यक है कि कृषक कृषि के विभिन्न पारंपरिक तौर-तरीकों में परिवर्तन लाकर कृषि से जुड़े नवीनतम तकनीकों को अपनाएं ताकि मृद्धा के बेहतर स्वास्थ्य को बरकरार रखते हुए न सिर्फ कृषि उत्पादन में वृद्धि हो सके बल्कि उसमें आवश्यक पोषक तत्वों की भी उपलब्धता बरकरार रहे। कृषि कार्यों में पारंपरिक रूप से प्रयोग किए जाने वाले रासायनिक खादों, अत्यधिक जल प्रयोग, कीटनाशकों के प्रयोग पर चिंता जाहिर करते हुए कहा कि इन कारणों से वैश्विक स्तर पर कृषि हास देखने को मिल रहा है।

इसलिए आवश्यक है कि जैविक खेती को बढ़ावा देने के साथ-साथ सिंचाई के नए-नए साधनों जैसे ड्रिप सिंचाई, स्प्रिकलर सिंचाई एवं जलवायु अनुकूल कृषि को अपनाया जाए। उन्होंने कहा कि जल की पर्याप्त सुनिश्चित करने की दृष्टि से भी राज्य सरकार द्वारा महत्वाकांक्षी अभियान जल जीवन हरियाली का क्रियान्वयन किया जा रहा है। इस अभियान में कृषि विभाग को महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की जिम्मेदारी दी गई है। जिला कृषि कार्यालय इस अभियान के तहत निर्धारित लक्ष्यों को हासिल करने हेतु लगातार प्रयत्नरत भी है।

जिला पदाधिकारी द्वारा इस अवसर पर प्रगतिशील किसानों, विभिन्न ऐजेंसियों द्वारा संस्थापित प्रदर्शनी स्टॉलों का भी अवलोकन किया गया। इससे पूर्व जिला कृषि पदाधिकारी एवं अन्य संबंधित पदाधिकारियों दवारा किसान मेला-सह-प्रदर्शनी एवं सरकार दवारा क्रियान्वित योजनाओं के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। दिनांक 12-13 मार्च के दौरान आयोजित इस मेला के दौरान फल-फूल, सब्जी एवं प्रसंस्कृत उत्पादों की प्रदर्शनी, नवीतम कृषि यंत्रों का जीवंत प्रदर्शन, ड्रीप एवं स्प्रिंकलर सिंचाई तकनीक का प्रदर्शन, मल्चिंग एवं वायोफ्लॉक तकनीक से खेती का जीवंत प्रदर्शन, उन्नत नस्ल की बकरी का प्रदर्शन, जैविक कृषि उत्पादों की प्रदर्शनी के साथ-साथ कृषि विशेषज्ञों द्वारा तकनीकी परिचर्चा आदि का आयोजन किया जाना है।

इस अवसर पर जिला कृषि पदाधिकारी शैलेश कुमार, प्रधान वैज्ञानिक एवं अध्यक्ष, क्षेत्रीय मक्का अनुसंधान केंद्र, जिला जन संपर्क पदाधिकारी भुवन कुमार सहित जिला पशुपालन पदाधिकारी, जिला गव्य विकास पदाधिकारी, सभी प्रखंड कृषि पदाधिकारी, किसान सलाहकार सहित अन्य संबंधित पदाधिकारी एवं जिले के विभिन्न प्रखंडों से आए प्रगतिशील किसान मौजूद थे।

You cannot copy content of this page