बेगुसराय पुलिस ने किया अलर्ट ,लॉकडाउन में एक्टिव हुए साइबर ठग,रहें सावधान

डेस्क : एक तरफ जहां पूरा विश्व कोरोना से जंग लड़ रहा है, वहीं दूसरी तरफ देश के विभिन्न राज्यों से ऐसे मामले सामने आये हैं जिसमें लोग ऑनलाइन ठगी के शिकार हो रहे हैं। इसी प्रकार के ठगी से बचने के लिए बिहार पुलिस की अपराध इकाई ने जागरूकता सन्देश जारी किये हैं। आपको बता दें कि इस ठगी में मुख्य रूप से लोगों के बैंक अकाउंट में दिये फोन नम्बर पर फोन कॉल्स के माध्यम से झांसा दिया जाता है, जो विभिन्न प्रकार के होते हैं जिसमें ईएमआई रुकवाने, एटीएम कार्ड की वेलिडिटी बढ़ाने , आपके द्वारा इनाम जीते जाने का बात बताकर फोन नम्बर पर गये ओटीपी की मांग करते हैं, ओटीपी मिलने पर आसानी से खाता की राशि को ऑनलाइन तरीके अकाउंट ट्रांसफर कर लोगों के खाता में चुना लगा दिया जाता है।

हालांकि बैक द्वारा अपने खताधारकों को ऐसा करने से रोकने हेतु जागरूकता भी फैलाई जाती रही है लेकिन अभी भी बहुत सारे लोग इस प्रकार की ठगी का शिकार हो जाते हैं। इसी प्रकार की ठगी या ऑनलाइन सम्बंधी किसी भी ठगी से बचने के लिये बेगुसराय पुलिस के ऑफसीएल ट्वीट है हेंडल से आर्थिक अपराध इकाई पटना द्वारा जारी एडवाइजरी शेयर किया गया है जिसमें आपको यानि हमको और सभी आम जनता को किसी भी प्रकार के फेक कॉल्स से सचेत रहने के लिए कहा गया है, चूंकि व्यक्ति के जागरूकता से ही इस प्रकार के ऑनलाइन क्राइम पर रोक लगाया जा सकता है इसीलिए द बेगुसराय की भी ये अपील है कि आपलोग आर्थिक अपराध इकाई पटना द्वारा जारी विशेष गाइडलाइन का जरूर पालन करें।

कैसे बच सकते हैं ? बैंक खाताधारक को फोन कॉल्स पर उपभोक्ता वेरीफिकेशन के नाम पर अपनी एकाउंट संबंधी डिटेल, एटीएम नंबर, पिन कोड, सीवीवी कोड व व्यक्तिगत जानकारी मांगने पर किसी को न दें। साइबर ठग इसके सहारे खाते से धनराशि उड़ा लेते हैं। पुलिस की साइबर क्राइम यूनिट का कहना है कि उपभोक्ताओं को लालच देने वाले संदेशों या फोन कॉल की पूरी तरह अनदेखी करनी चाहिए। इसके अलावा इसकी सूचना तुरंत साइबर सेल या संबंधित थाने में देनी चाहिए।