बेगूसराय में कोरोना का कहर, 5 वर्षीय मासूम बच्चे ने दी पिता को मुखाग्नि

Covid BGS

डेस्क : इन दिनों कोरोनावायरस के कारण न जाने कितने हंसता- खेलता हुआ परिवार अपनों से बिखर रहा है। और आखिर कब तक बिखरेगा यह अंदाजा लगाना मुश्किल होता जा है। इसी का जीता जाता उदाहरण बेगूसराय जिले के बखरी अनुमंडल में देखने को मिला। जहां कोरोना से एक व्यक्ति अचानक मृत्यु हो गई। अंत में परिजनों ने शव का दाह- संस्कार के लिए श्मशान घाट ले गया। लेकिन, इसी बीच वहां से एक ऐसी तस्वीरें निकल कर सामने आई जो अपने आप ने झकझोर कर रख देंगी।

एक ओर जहां देश के अलग-अलग हिस्सों मे परिजन कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत के बाद शव लेने से इंकार कर देते हैं। तो कहीं पिता का शव छोड़कर पुत्र भाग जाता है। लेकिन, यह मामला सभी से हटके हैं। जहां पिता के मृत्यु उपरांत एक 5 वर्षीय नादान बालक ने अपने पिता को मुखाग्नि देकर अपना पुत्र होने का धर्म निभाया। साथ ही अपने हिंदू धर्म के संस्कार का भी पालन किया। घटना बखरी के सलौना गांव का है। घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि सलौना गांव निवासी कोको साहू के 41 वर्षीय पुत्र सनातन साहू की मौत कोरोना हो गई।

उसकी टेस्ट बीते 25 तारीख को बखरी के सरकारी अस्पताल में करायी गयी थी। इसमें वह पॉजिटिव पाया गया। गंभीर स्थिति को देखते हुए उसे इलाज के लिए बेगूसराय भेज दिया गया। इलाज के दौरान गुरुवार की देर शाम उसकी मौत हो गई। अधिकारियों के निर्देश पर कोरोना प्रोटोकॉल के तहत उसका दाह संस्कार गांव के पासही बागमती नदी के किनारे किया गया। मृतक के पांच वर्षीय मासूम पुत्र सन्नी ने मुखाग्नि देकर अपना धर्म निभाया है। तो वही मृतककी 26 वर्षीय पत्नी मधुदेवी का रोरोकर बुरा हाल है

You cannot copy content of this page