समाजवादी नेता विष्णुदेव मालाकार के असामयिक निधन पर शोकसभा आयोजित

बेगूसराय : जिला के सुदूरवर्ती अनुमंडल बखरी क्षेत्र के शैक्षणिक, सामाजिक, राजनितिक एवं धार्मिक क्षेत्रों में अपनी सक्रियता से खास पहचान बनाने में सफल रहे विष्णुदेव मालाकार के आकस्मिक निधन को लेकर भारतेन्दु विचार मंच द्वारा आहूत शोक-सभा में स्थानीय लोगों ने उनके तैलचित्र पर मंगलवार को श्रद्धा सुमन अर्पित कर दो मिनट का मौन रखा। लॉकडाउन और सामाजिक दूरी की वजह से संत पॉल मॉडर्न स्कूल, बखरी में आयोजित कार्यक्रम में दूरभाष के जरिये शौक-संवेदना व्यक्त करते हुए बखरी अनुमंडल के पूर्व डी. एस. पी. एवं आंबेडकर सेवा संस्थान के अध्यक्ष श्री रामचंद्र राम कि विष्णुदेव बाबू एक समाजसेवी, कुशल नेतृत्वकर्त्ता, क्षेत्र के गुरूजी तथा विकट परिस्थिति में भी अपने चेहरे पर मुस्कान बिखेरने वाला सहृदयी महामानव थे। श्री राम ने उन्हें सच्चा मित्र बताते हुए आगे कहा कि समय से पूर्व उनके चले जाने से मर्माहत हूँ। आत्मा की शांति एवं परिवार को शक्ति देने की प्रार्थना भी ईश्वर से की।

पूर्व मुखिया व अधिवक्ता श्री मनोहर केशरी ने गहरा दुःख व्यक्त कि हमने एक बेहतर इंसान और प्रभवशाली वक्ता को खो दिया है। संत पॉल मॉडर्न स्कूल के निदेशक श्री दानेश्वर प्रसाद ने श्री विष्णुदेव बाबू को एक प्रखर वक्ता, शिक्षाविद एवं सामाजिक चेतना से ओत-प्रोत व्यक्तित्व करार देते हुए कहा कि मालाकार जी का सम्पूर्ण जीवन समाज सेवा में ही समर्पित रहा। एम. एस. कॉलेज, सोनिहार में पदस्थापित अंग्रेजी के विभागाध्यक्ष प्रो० आजाद राठौर ने अपने शोक- संवेदना में एक सफल शिक्षक, कुशल राजनीतिज्ञ और अच्छे सामाजिक कार्यकर्ता होने के साथ-साथ जीवन पर्यन्त जूझनेवाला इंसान बताया।

भाजयुमो नेता सह पार्षद नीरज नवीन ने कहा कि सामाजिक कार्यों से प्रेरित करने वाला मार्गदर्शक हमने खोया है। श्री रामनन्दन अज्ञानी ने स्व० मालाकार को समाजवादी विचारधारा के प्रबल पोषक एवं स्तर पर मदद के लिए तत्पर रहनेवाला सामाजिक योद्धा बताया। शोक-संवेदना व्यक्त करने वालों में विजय नेमानी जी ने छात्र जीवन के अनुभवों को साझा कर बताया कि सामाजिक जीवन में उनकी कमी हमेशा खलेगी। प्रो० वैद्यनाथ चौरसिया ने कहा कि एक खिला हुआ पुष्प का मुरझा जाना बड़ा दुःखदायी है।

शिक्षक विजय पासवान ने मिलनसार अभिभावक के खोने का जहाँ दुःख जताया वहीं मंच के सचिव राजीव नंदन ने कहा कि बाल विकास मंदिर के देवता, राजनीति के पुजारी और विशुद्ध सामाजिक जीवन वाले संवेदनशील प्राणी की कमी हमें दीर्घकाल तक खलता रहेगा। सामाजिक योद्धा के आत्मा की शांति एवं परिवार को सामर्थ्य देने की प्रार्थना भी ईश्वर से की। शोक-संवेदना एवं श्रद्धा-सुमन अर्पित करनेवालों में श्री इंद्रदेव सिंह, रामचंद्र सहनी, चिरंजीवी गौस्वामी, राजेश कुमार, बेबी रानी, शक्ति शर्मा, गणेश कुमार, आदर्श कुमार सहित संत पॉल स्कूल के अन्य शिक्षक-शिक्षिकायें भी उपस्थित थे।