खुशखबरी: 22 महीने बाद बिहार-नेपाल बस सेवा शुरू, दीवाली पर लोगों को मिला तोहफा, जानिए किराया

Bihar Nepal Bus

डेस्क : बिहार और नेपाल के बीच बेटी-रोटी का रिश्ता माना जाता है। वहीं इन दोनों जगहों के लोगों के बीच अलग-अलग देश होने के बावजूद भी भावनात्मक और धार्मिक रुप से गहरा जुड़ाव है। ऐसे में दोनों देशों के सरकारों ने सर्वसम्मति से पटना से काठमांडू तक बस परिचालन शुरू किया था। कोरोना संक्रमण के चलते पिछले वर्ष 20 फरवरी से पटना से काठमांडू और जनकपुर हेतु बस सेवा बंद कर दी गई थी, जो कि पुनः बहाल होने जा रही है। इस दीपावली के अवसर पर यात्रियों के मांग को देखते हुए बंद पड़े बस सेवा शुरू की जा रही है। मालूम हो कि दोनों देशों के सरकारों की ओर से बस सेवा शुरू करने पर सहमति जता दी गई है। इसके साथ ही दीवाली के दिन बिहार से नेपाल के लिए बस से आवागमन शुरू हो जाएगी। वहीं आपको बतादें कि नेपाल सरकार ने मंगलवार से ही काठमांडू से पटना के लिए बस सेवा शुरू कर दी है।

बिहार में कागजी कार्रवाई में देरी के चलते यहां से चलने वाली बसें एक-दो दिन की देरी से चल रही हैं। साथ ही पटना और बोधगया से काठमांडू और जनकपुर के लिए चलने वाली बसें बुधवार या गुरुवार से चलने लगेंगी। बस मालिकों ने काठमांडू और जनकपुर के लिए भी बुकिंग शुरू कर दी है। मंगलवार को बस नेपाल से पटना के लिए रवाना हुई। इससे पहले काठमांडू के लिए चार और जनकपुर के लिए तीन बसें चल रही थीं।

पटना और बोधगया से पटना के रास्ते काठमांडू के लिए प्रति दिन दो बसें और पटना से जनकपुर के लिए प्रति दिन एक बस है। दिल्ली से काठमांडू के लिए बस सेवा भी शुरू कर दी गई है। डीजल के दाम बढ़ने से बसों का किराया बढ़ सकता है। बिहार राज पथ परिवहन निगम के प्रशासक के अनुसार पटना और बोधगया से नेपाल के लिए चलने वाली बस सेवा एक-दो दिन में शुरू कर दी जाएगी। परिवहन विभाग के अधिकारियों ने 1011 कागजी कार्रवाई लगभग पूरी होने की जानकारी दी है। बोधगया से काठमांडू का किराया 1250 रुपये था जबकि पटना से काठमांडू का किराया 1015 रुपये था। पटना से जनकपुर का किराया 1250 रुपये तय किया गया था।

You cannot copy content of this page