बेगूसराय डीएम ने दुर्गा पूजा, दिवाली, और छठ पूजा को लेकर की बैठक : दिए ये निर्देश

Durga Puja Begusarai

डेस्क : कोविड-19 को मद्देनजर रखते हुए बेगूसराय जिला अधिकारी श्री अरविंद कुमार वर्मा ने बेगूसराय कारगिल विजय सभा भवन में दशहरा/ दीपावली एवं छठ पूजा 2020 को लेकर विभिन्न पूजा समितियों के साथ बैठक की। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक श्री अवकाश कुमार , सहायक पुलिस अधीक्षक श्री अवधेश कुमार दीक्षित, उप विकास आयुक्त श्री सुशांत कुमार, नगर आयुक्त मोहम्मद अब्दुल हामिद, अनुमंडल पदाधिकारी बेगूसराय सदर श्री संजीव कुमार चौधरी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी बेगूसराय सदर श्री राज सिन्हा सहित विभिन्न पूजा समितियों के प्रतिनिधि मौजूद थे।

इस अवसर पर जिला पदाधिकारी ने संपूर्ण जिलावासियों से अपील किया कि इस वर्ष दुर्गा पूजा के अवसर पर कोविड-19 के मद्देनजर किसी भी ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन नहीं करें , जिससे कोरोना संक्रमण को विस्तार मिले । प्रयास करें कि दुर्गा पूजा का आयोजन अपने घरों में ही करें । उन्होंने गृह विभाग , बिहार सरकार द्वारा जारी निर्देश के आलोक में बताया कि इस वर्ष दुर्गा पूजा का आयोजन मंदिरों में या निजी रूप से केवल घरों में ही किया जा सकता है तथा मंदिर में भी पूजा स्थल मंडप का निर्माण किसी विशेष थीम पर नहीं किया जाएगा। इसके आसपास कोई तोरण द्वार अथवा स्वागत द्वार नहीं बनाया जाएगा तथा जिस जगह मूर्तियां रखी है उस स्थान को छोड़कर शेष भाग खुला रहेगा ।

उन्होंने बताया कि कोविड-19 को मध्य नजर रखते हुए दशहरा में किसी प्रकार के मेले का आयोजन नहीं किया जाएगा और ना ही सार्वजनिक उद्घोषणा प्रणाली का उपयोग किया जाएगा। पूजा स्थल के आसपास खाद्य पदार्थ का स्टाल भी नहीं लगाया जाएगा तथा कोई सामुदायिक भोज/ प्रसाद या भोग का वितरण भी नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इन निर्देशों के उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के विरुद्ध आपदा प्रबंधन अधिनियम की धारा 51-60 के प्रावधानों के अतिरिक्त भारतीय दंड संहिता की धारा 188 एवं अन्य सुसंगत धाराओं के अधीन कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक ने पूजा समितियों के प्रतिनिधियों से अपील करते हुए कहा कि पूजा आयोजन के संबंध में गृह विभाग , बिहार के दिशा निर्देश का अनुपालन करें तथा किसी भी ऐसे कार्यक्रम का आयोजन नहीं करें , जिससे की भीड़ जमा हो। उन्होंने सभी व्यक्तियों को आश्वस्त किया कि सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जाएगा , लेकिन पूर्व की भांति अपने स्तर से मंदिरों में सीसीटीवी संस्थापित करवाना सुनिश्चित करें , ताकि सुरक्षा व्यवस्था को और भी पुख्ता किया जा सके।