भारत में एक हफ्ते में कोविड-19 के मामले 61,000 बढ़े, विशेषज्ञों ने जताई गहरी चिंता कहा- जरूरत पड़ने पर फिर लगाना होगा लॉकडाउन?

डेस्क : भारत में लॉकडाउन का कहर लगातार जारी है और संक्रमित मरीजों के आंकड़े लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। लॉकडाउन में थोड़ी सी ढील मिलते ही यह संक्रमण काफी तेजी से फैल रहा है और हालात आज ये हो गए हैं कि भारत मे प्रतिदिन अब 10,000 कोरोना मरीज़ मिल रहे हैं। सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी कोरोना थमने का नाम नहीं ले रहा है। कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या अब 2,57,390 हो चुकी है। पिछले एक हफ्ते में देश मे लगभग 60,000 नए मामले सामने आने से स्वास्थ्य विशेषज्ञों की चिंता बढ़ गई है और उन्होंने कहा है कि यदि हालात बेकाबू हो गए तो लाॅकडाउन फिर से लगाना पड़ सकता है क्योंकि इस लाॅकडाउन में ढील की वजह से कोविड-19 का खतरा बढ़ता ही जा रहा है।

फोटिॅस अस्पताल के फेफड़ा रोग विभाग के निदेशक डॉ विकास मौर्य ने पीटीआई से कहा जब लॉकडाउन चरणबद्ध तरीके से खोला जाएगा तो मामलों में भी बढ़ोतरी होगी क्योंकि महामारी रोकने के लिए ही लॉकडाउन लगाया जाएगा। उन्होंने कहा, इस बात का ध्यान रखना होगा कि हालत बेकाबू ना हो, ऐसी स्थिति में फिर से यह लॉकडाउन फिर से लगाना पड़ सकता है।

कोरोना महामारी के मामले मे भारत छठे स्थान पर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में अभी तक कुल मामले 2,46,628 पहुंच गया है वहीं अगर बात करें मौत की तो वह 6,929 पहुंच गया है। डॉ अरविंद कुमार ने कहा कि लॉकडाउन में सभी नियमों का पालन करें, जरूरत पड़े तो भी घर से बाहर निकले,हमेशा मास्क पहने और सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन करें। दुनियाभर में कोरोना के अब तक 70 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। कोरोना से मौत का आंकड़ा भी बढ़कर 4 लाख को पार तक जा पहुंचा है