बेगूसराय में पत्रकार सुभाष की हत्या के विरोध में DM ऑफिस के सामने जिले के सभी पत्रकारों ने किया भूख हड़ताल..

DM OFFICE

डेस्क : बेगूसराय के बखरी सांखु गाँव निवासी दिवंगत एक वेब पोर्टल के युवा पत्रकार सुभाष कुमार की हत्या के विरोध में शुक्रवार को कलेक्ट्रेट के दक्षिणी द्वार पर जिला पत्रकार संघ के द्वारा जिलाध्यक्ष शालिग्राम सिंह के नेतृत्व में दो दिवसीय भूख हड़ताल के साथ धरना प्रदर्शन जिले के सैकड़ों पत्रकार मिलकर किया।

इस मौके पर संघ के जिलाध्यक्ष शालिग्राम सिंह ने सभी धरना पर बैठे हुए जिले के कोने-कोने से आए पत्रकारो को संबोधित करते हुए कहा कि पत्रकार सुभाष कुमार की हत्या होने के बाद से अपराधी खुलेआम सड़क पर घूम रहे हैं। एसपी साहब ने हम लोगों को आश्वासन दिया था, कि आप लोग शांत रहिए, हम 72 घंटे के अंदर इस घटना में सम्मिलित सभी अपराधियों को गिरफ्तार करके जेल के सलाखों में भेजेंगे और इस केस को स्पीडी ट्रायल कराकर सभी को कड़ी से कड़ी सजा दिलाएंगे।

आपको बता दे की हत्या के 7 दिन बीत जाने के बाद भी अभी तक एक भी अपराधियों की गिरफ्तारी उनके पुलिसकर्मियों के द्वारा नहीं किया गया है। वही, सिटी न्यूज़ के पत्रकार सुमित वत्स ने कहा बेगूसराय में अपराधियों का काफी बोलबाला है! कोई भी जिले के लोग अभी सुरक्षित नहीं है। युवा पत्रकार सुभाष कुमार के हत्यारों की गिरफ्तारी शीघ्र पुलिस नहीं करती है, तो हम लोग सभी पत्रकार मिलकर इस आंदोलन को और वृहद पैमाने पर ऊपर ले जाएंगे। मंझौल निवासी जिले के वरिष्ठ पत्रकार महेश भारती ने कहां कि बेगूसराय जिला का यह दुर्भाग्य है कि अब अपराधी चौथे स्तंभ के साथी को गोली मारकर हत्या करने पर उतारू हो गए हैं। उसके हत्या करने से जिले के पत्रकारों की आवाज रुकने वाली नहीं है। अब और शोला बनकर यहां के पत्रकार उतरेंगे।

ये भी पढ़ें   खुशखबरी! वर्ल्ड क्लास सुविधाओं से लैस होगा पूर्व मध्य रेल के बेगूसराय- बरौनी सहित 12 स्टेशन -जानें क्या है अपडेट

प्रत्यक्ष गवाह के पत्रकार सह समाजसेवी पुष्कर प्रसाद सिंह ने कहा कि जिला पुलिस बल के कप्तान बिल्कुल हाथ पर हाथ रखकर सोए हुए हैं। अगर शीघ्र उन सभी अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं करते हैं,तो हम उन्हें चैन के नींद सोने के लिए नहीं देंगे। मंझौल निवासी हिंदुस्तान के पत्रकार संजय सिंह ने कहा कि हमारे बीच से अपराधियों ने गोली मारकर एक युवा साथी हमारे छोटे भाई की तरह पत्रकार सुभाष कुमार की हत्या 7 दिन पहले कर दिया। लेकिन जिले के सैकड़ों पत्रकार अभी भी जिंदा बचे हुए हैं। उन अपराधियों को हम हुंकार भरते हैं कि तुम मेरी कलम की स्याही को छीनने का प्रयास किया है! लेकिन हम सभी पत्रकार भाई तुम जैसे अपराधियों को , जिले के सभी भूमाफिया , शराब माफिया को और जिले के वैसे भ्रष्ट पदाधिकारियों के खिलाफ और जमकर अपने अपने अखबार में लिखने का काम करेगे।