महाभारत काल के बाद बेगूसराय के संजय ने केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह को शब्दों से दिखाई सच्चाई

न्यूज डेस्क, बेगूसराय : हाल ही में बेगूसराय में दिए गए भाषण में कांग्रेसियों और वामपंथियों पर उटपटांग भाषा का प्रयोग करके केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने किसान आंदोलन पर जमकर निशाना साधा। उक्त वाकया बेगूसराय के एमरजेडी कॉलेज में भाजपा के आयोजित किसान सम्मेलन का है। जिसमें स्थानीय सांसद व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कांग्रेस और वामपंथ के नेताओं को दोगला कह दिया।

हालांकि बाद में इन्होंने दोगला शब्द को संवैधानिक शब्द बताते हुए इसका मीनिंग भी समझा दिए। दोगला बोलने बाला वीडियो क्लिप जैसे वायरल हुई कांग्रेस और वामपंथ के नेताओं ने गिरिराज सिंह पर जमकर निशाना साधना शुरू कर दिया। हालांकि पक्ष विपक्ष में कहासुनी और तू तू मैं मैं राजनीति में कोई नई बात नहीं है। परंतु बेगूसराय के सांसद व हिन्दू हृदय सम्राट गिरिराज सिंह को भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष संजय सिंह ने घेर लिया।

महाभारत में संजय ने दिखाई थी सच्चाई अब बेगूसराय में भी संजय ने सच्चाई दिखाने की जहमत उठाई : हालांकि बेगूसराय भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष संजय सिंह कोई पहले भाजपाई नहीं हैं जिन्होंने बीते विस चुनाव से ही गिरिराज सिंह पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप निशाना साध रहे हों ।परन्तु बीतते वक्त के साथ और बेगूसराय में भाजपा को मिली सफलता के बीच अन्य सारे नेताओं में गिला शिकवा भुला कर आगे बढ़ चुके हैं।

परंतु पूर्व जिलाध्यक्ष संजय सिंह एक सूत्री कार्यक्रम के तहत स्थानीय सांसद पर बरसने में लगे हैं। हालांकि इससे पहले द बेगूसराय ने ऐसे किसी भी वाकया के बारे में खबर प्रकाशित करना उचित नहीं समझा । लेकिन जब सम्पूर्ण बेगूसराय के भाजपाई दोगला शब्द के प्रतिकार की जहमत न उठा पाए तो एक अकेला संजय सिंह ने केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह व बेगूसराय के भाजपाइयों को बड़े ही सभ्य व शालीन भाषा में आईना दिखाने की कोशिश की। वीडियो शेयर करते क्या लिखा इन्होंने पढ़िए ……

शब्दों की मर्यादा तो होनी ही चाहिए। आप जैसे लोग जब ऐसे शब्दों का प्रयोग करेगें, तो कहीं न कहीं हमारे #विचार परिवार की आत्मा भी पीड़ा की वेदना से गुजरती होगी। हम ऐसे शब्द के जगह पर #दोहरे – चरित्र जैसे शब्द का इस्तेमाल कर सकते थे। #झूठ – सच के ताना – बाना से निकलकर कभी – कभी #शब्दकोश को भी पलट लिया करें। भाजपा के वार्ड और पंचायत स्तर के भी कार्यकर्ता ऐसी भाषा का प्रयोग नहीं करते हैं, आप तो हिन्दू हृदय सम्राट ही हैं ,और उस दल में भी हिन्दू हैं, तो आपके ऐसे शब्दवाण से उस #हिन्दुओं पर क्या गुजरा होगा …….?

जबकि अपने लोकप्रिय प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी का स्पष्ट संदेश है, किसी की प्रति अपनी #भाषा मर्यादित होनी चाहिए।