जिले में बाढ़ से बचाव के लिए प्रशासन अलर्ट, डीएम ने नावों, राहत शिविर और आईशोलेशन केंद्र के लिए दिए विशेष निर्देश

डेस्क : जिला प्रशासन बेगूसराय के द्वारा बाढ़ के पूर्व मुकम्मल तैयारियां की जा रही है। ताकि बाढ़ के समय अफरा तफरी का माहौल ना बने। इस कड़ी में सोमवार को जिलाधिकारी अरविंद कुमार वर्मा की अध्यक्षता में समाहरणालय स्थित जिलाधिकारी कार्यालय कक्ष में जिले में आगामी संभावित बाढ-2020 की पूर्व तैयारी संबंधी समीक्षात्मक बैठक आहूत की गई।

बैठक के दौरान जिला पदाधिकारी ने सर्वप्रथम सभी संबंधित विभागों के पदाधिकारियों से जिले में आगामी संभावित बाढ़ पूर्व तैयारियों के साथ-साय पिछली समीक्षात्मक बैठक के दौरान दिए गए निर्देशों के संबंध में की गई कारवाई से संबंधित जानकारी प्राप्त की तथा शेष कार्यो को अविलंब पूरा करने का निर्देश दिया।उन्होंने सभी संबंधित अंचलाधिकारियों एवं अनुमंडल पदाधिकारियों से सरकारी नावों की उपलब्धता, मरम्मत योग्य एवं मरम्मत की जा चुकी नावों के संबंध में जानकारी प्राप्त कर शेष मरम्मत योग्य नावों को भी अविलंब मरम्मत कराने के निदेश दिया।

इस दौरान उन्होंने चिन्हित किए गए निजी नावों के निबंधन एवं किए गए एकरारानामा की अद्यतन स्थिति की जानकारी प्राप्त की तथा विभागीय निर्देश के आलोक में निजी नावों को एकरारनामित करने का निदेश दिया। गौरतलब है कि प्रभावित अंचलों से नाव के संबंध में प्राप्त प्रतिवेदन के अनुसार, अब तक 232 निजी नाव चिन्हित किए गए हैं जिसमें से 64 का निबंधन कर एकरारनामित किया गया है।

211 बाढ़ राहत शिविर और 66 आईशोलेशन केंद्र हैं चिन्हित जिला पदाधिकारी ने बैठक के दौरान सभी बाढ़ प्रभावित अंचलों में चिन्हित 4किए गए बाढ़ राहत शिविरों एवं आइसोलेशन केंद्रों के संबंध में जानकारी प्राप्त की। इस दौरान बताया गया कि जिले में अब लक 211 बाढ़ राहत शिविर तथा 66 आइसोलेशन केंद्रों को चिन्हित किया जा चुका है। जिला पदाधिकारी ने निदेशित करते हुए कहा कि बाढ़ राहत शिविरों को पंचायतवार एवं आइसोलेशन केंद्रों के साथ टैग करना सुनिश्चित करें तथा जिन शिविरों को चिन्हित किया जा चुका है, उसकी विस्तृत सूची कार्यपालक पदाधिकारी, लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण विभाग को उपलब्ध करा दें ताकि आवश्यकतानुसार शौचालय, चापाकल आदि के संबंध में कार्रवाई संभव हो सके।

इसी क्रम में उन्होंने सभी अंचलाधिकारियों को भेदय समहों जिसमें गर्भवती एवं स्तनपान कराने वाली महिलाएं, दिव्यांग, बीमार, वृद्ध, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के लोग शामिल हैं, को भी सीडीपीओ, एमओआईसी एवं संबंधित प्रखंड विकास पदाधिकारी के माध्यम से तैयार करने का निर्देश दिया। बैठक दौरान प्रखंड स्तरीय नियंत्रण कक्ष के गठन, राहत एवं बचाव दल की सूची एवं अनुश्रवण-सह-निगरानी समिति के गठन के साथ-साथ बाढ़ से प्रभावित होने वाले संभावित व्यक्तियों की सूची बैंक खाता सहित तैयार करने का निर्देश दिया गया।

इन सभी पदधिकारियाओं ने बैठक में हिस्सा लिया इस अवसर पर अपर समाहत्ता मो. बलागद्दीन, सिविल सर्जन कृष्ण मोहन वर्मा, जिला परिवहन पदाधिकारी श्रीप्रकाश, जिला कृषि पदाधिकारी शैलेश कुमार, प्रभारी पदाधिकारी आपदा शाखा अनीश कुमार सहित जिला सांख्यिकी पदाधिकारी, जिला पशुपालन पदाधिकारी, कार्यपालक अभियंता बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल, कार्यपालक अभियंता, पथ प्रमंडल, कार्यपालक अभियंता, ग्रामीण कार्य विभाग बेगूसराय मौजूद थे। बैठक में जिले के सभी अनुमंडल पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारियों ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भाग लिया।