छत्तीसगढ़ में हुए अब तक 10 बड़े नक्सली हमले, जिनमें धरती हुई लाल, 300 से अधिक जवान वीरगति को प्राप्त

Chattishgarh

डेस्क : अभी हाल ही में छत्तीसगढ़ के बीजापुर जिले में जवान और नक्सलाइट के भयंकर मुठभेड़ में 23 जवान वीरगति को प्राप्त हो गये। शहीद जवानों की फोटो और वीडियो सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रही है। वायरल वीडियो में जवानों की लाश जंगल में पड़े हुए दिखाई दे रही है। नक्सली शहीद जवानों के हथियार और जूते भी लूट ले गए हैं। तो चलिए आज हम आपको बताएंगे कि छत्तीसगढ़ में अब तक हुए सबसे आत्मघाती हमले, जिसमें अब तक कुल 300 से अधिक जवान वीरगति को प्राप्त कर चुके हैं।

छत्तीसगढ़ की प्रमुख नक्सली वारदात 15 मार्च 2007 को बीजापुर जिले के रानीबोदली कैंप परहमला, जिसमें 55 शहीद हो गये थे। 06 अप्रैल 2010 को सुकमो जिले के ताडमेटला में सीआरपीएफ जवानों पर हमला हुआ था। जिसमे 76 शहीद हो गये थे। 25 मई 2013 को बस्तर जिले के झीरम घाट में कांग्रेस काफिले पर हमला होने के क्रम मे 31 कांग्रेसी व जवान शहीद हो गये थे। 11 मार्च 2014 सुकमा को जिले के टाहकवाड़ा में आत्मघाती हमलाे मे CRPF के 15 जवान शहीद हो गये थे। 12 अप्रैल 2015 को बस्तर जिले के दरभा में एंबुलेंस को विस्फोट से उडा दिया गया था।

जिसमे 15 जवान सहित ड्राइवर स्वास्थ्यकर्मी शहीद चो गये थे। 6 मई 2017 को सुकमाके कसालपाड़ में घात लगाकर जवानों पर हमला किया गया था। जिसमें 14 जवान शहीद हो गए थे। 25 अप्रैल 2017 को सुकमा जिले के बुरकापाल मेे सीआरपीएफ के जवानों पर हमला हुआ था। जिसमें 5 जवान शहीद हो गये थे। 23 मार्च 2020 को सुकमा जिले के मिनपा में जवानों पर हमला हुआ था। जिसमे 17 शहीद हो गये थे। 23 मार्च 2021 को नारायणपुर में जवानों के बसको को विस्फोट से उड़ाया था। जिसमें 5 जवान शहीद हो गए। और अभी हाल ही में 03 अप्रैल 2021 को बीजापुर जिले के तप्रेम में जवान और नक्सलाइट के मुठभेड़, 23 जवान शहीद हो गये।

You may have missed

You cannot copy content of this page