नगर की नारकीय हालत के विरोध में पार्षदों ने खोला मोर्चा

Bakhri Nagar

बखरी/बेगूसराय : नगर क्षेत्र की नारकीय हालत व अन्य मुद्दों को लेकर गुरूवार को नगर परिषद बोर्ड की बैठक विपक्ष के पार्षदों के हंगामे व धरना को भेंट चढ़ गई। बैठक शुरू होते ही विपक्ष की ओर से नगर पार्षद सिधेश आर्य ने मुख्य पार्षद गीता कुशवाहा से गत बैठक की कार्यवाही की संपुष्टि नहीं किए जाने व नगर की नारकीय हालत का मुद्दा उठाते हुए पूछा कि आपकी नगर सरकार में बखरी बाजार झील में क्यों तब्दील हो गई है?

मुख्य पार्षद की ओर से कोई संतोषजनक जवाब नहीं मिलने और नगर की नारकीय हालत, मुख्य बाजार में दोनों ओर नाला निर्माण और आवास योजना की फाइलें गायब कर दिए जाने आदि का मुद्दा उठाते हुए पार्षद सिधेश आर्य, सरिता साहू, बेबी केशरी, जयजय, संगीता राय, पिंकी कुमारी, अशोक राय, सुबोध सहनी, नीरज नवीन आदि सदन के बेल में आ गए और हंगामा करने लगे। विपक्षी पार्षदों ने मुख्य पार्षद पर आरोप लगाया कि उन्होंने बखरी के विकास को अवरूद्ध कर दिया है और सरकारी फाइलों को वह घर में रखकर जनहित के खिलाफ काम कर रही हैं।

बोर्ड की बैठक में दूसरी बार आए विधायक सूर्यकान्त पासवान ने भी विपक्षी पार्षदों के उठाए जनहित के मुद्दों पर मोर्चा संभाला और नगर क्षेत्र के बखरी मुख्य बाजार में अब तक नालों का निर्माण नहीं किए जाने व आवास योजना की 400 से अधिक फाइलें गायब कर दिए जाने पर नाराजगी जताई और कार्यपालक पदाधिकारी राजेश कुमार पासवान व मुख्य पार्षद से पूछा कि बखरी पूरे नगर क्षेत्र की नारकीय हालत क्यों है? उन्होंने कार्यपालक पदाधिकारी व मुख्य पार्षद से कहा कि वे एक हफ्ते के भीतर नगर की अति आवश्यक योजनाओं मुख्य बाजार में नाले का निर्माण व आवास योजना सहित अन्य जरूरी कार्यों को अमलीजामा पहनाएं। इसमें किसी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

इसके बाद विपक्षी पार्षद वहीं सदन में धरना पर बैठ गए और कहा कि जबतक मुख्य पार्षद घर से सरकारी फाइलें नहीं लाएंगी तब तक धरना चलता रहेगा। यह देख मुख्य पार्षद अपने समर्थक पार्षदों के साथ के साथ बिना सदन की कार्यवाही स्थगित किए बैठक से बाहर निकल गई। विधायक सूर्यकान्त पासवान ने विपक्षी पार्षदों से कहा कि वे उनकी मांगों के साथ हैं और मुख्य बाजार में नाले का निर्माण और आवास योजना पर जल्द से जल्द काम शुरू होना चाहिए।

ख़बर लिखे जाते समय तक पार्षदों का धरना जारी था और कार्यपालक पदाधिकारी सदन में चल रहे धरना को समाप्त कराने के लिए विपक्षी पार्षदों का मान-मनौव्वल कर रहे थे। कार्यपालक पदाधिकारी की ओर से विपक्षी पार्षदों की मांगों के लिए एक हफ्ते की समय देने की मांग की गई है। धरना को तीन घंटे बीत जाने के बावजूद दोनों ओर से बातचीत चल रही है। विपक्षी पार्षद मुख्य बाजार के दोनों ओर नाले के निर्माण कार्य शुरू करने व आवास योजना की 400 से अधिक पेंडिंग फाइलों को पास किए जाने की मांग पर अडिग बताए जा रहे हैं।

You cannot copy content of this page