अब बंद होंगे सड़क हादसे! सरकार दे रही वाहनों की क्वालिटी पर जोर, Nitin Gadkari ने दिया बड़ा बयान..

Nitin Gadkari

डेस्क : देश में आए दिन सामने आ रहे सड़क दुर्घटनाओं पर नियंत्रण पाना बेहद जरूरी है। इस पर नियंत्रण पाने के लिए केंद्रीय परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी हर संभव प्रयास कर रहे हैं। टाटा संस के पूर्व चेयरमैन साइरस मिस्त्री की सड़क दुर्घटना में हुई मौत के बाद वाहन की क्वालिटी पर जोर दिया जा रहा है।

सोसाइटी ऑफ़ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स के 62 वें वार्षिक सेशन में नितिन गडकरी ने कई बयान दिए। मंत्री ने ऑटोमेटिक ब्रांड स्कोर बदलते समय के साथ टेक्नोलॉजी का उपयोग करने और मैन्युफैक्चरिंग कॉस्ट कम करने की दिशा में काम करने को कहा। वे कहते हैं कि ऑटोमोटिव समाधान ऐसे बनाए जाने चाहिए जो आरामदायक हों। इसके साथ ही ब्रांडों को वाहनों के आयात को भी कम करना चाहिए।

मंत्री ने कहा, “मैं ऑटोमोबाइल क्षेत्र में अपने दोस्तों से कहता हूं कि आपको गुणवत्ता-केंद्रित होना चाहिए न कि लागत-केंद्रित, क्योंकि लोगों की प्राथमिकताएं अब बदल रही हैं।” गडकरी ने वाहन कबाड़ नीति का जिक्र करते हुए कहा कि परिवहन एवं इस्पात मंत्रालय एक बार फिर वित्त मंत्रालय से वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में कटौती करने को कहेगा।

आपको बता दें कि देश में वाहन कबाड़ नीति 1 अप्रैल, 2022 से लागू हो गई है। केंद्रीय बजट 2021-22 में घोषित इस नीति में 20 साल बाद निजी वाहनों के फिटनेस टेस्ट का प्रावधान है, जबकि इसके लिए 15 साल पूरे होने के बाद वाणिज्यिक वाहन के लिए ऐसा करना होगा।

यकीन है कि देश की रसद लागत अगले दो वर्षों में जीडीपी के 10 प्रतिशत (वर्तमान में) से घटकर 14-16% हो जाएगी। गडकरी के मुताबिक चीन में लॉजिस्टिक्स की लागत 8-10 फीसदी है, जबकि अमेरिका के मामले में यह 10-12 फीसदी है।

ये भी पढ़ें   Grand Vitara और Hyryder में कौन है सबसे सस्ती और पावरफुल SUV, यहां देखें - पूरी जानकारी…