December 1, 2022

देश में 1 साल के भीतर Electric Car की कीमत होगी आधी से भी कम, जानें – Nitin Gadkari का पूरा प्लान..

electric vehicle

डेस्क : देश में लगातार बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर इलेक्ट्रिक वाहन (Electric Vehicle) की डिमांड कुछ ज्यादा ही बढ़ गई है। आपको बता दें कि तेजी से अलग-अलग क्षेत्रों में इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन का निर्माण करवाया जा रहा है। ताकि, लोगों को इसका सीधा लाभ मिल सके। वहीं, सरकार भी लगातार इस प्रयास में है कि लोगों को पारंपरिक फ्यूल (पेट्रोल-डीज़ल) वाहनों के बजाय इलेक्ट्रिक वाहनों के प्रयोग के लिए बढ़ावा दिया जाए। इसी क्रम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सभी इलेक्ट्रिक वाहनों (Electric Vehicles) की कीमतें एक साल के भीतर देश में पेट्रोल वाहनों की कीमत के बराबर हो जाएंगी।

उन्होंने कहा कि “सरकार पेट्रोल और डीजल के बजाय फसल अवशेषों से उत्पादित इथेनॉल को बढ़ावा दे रही है। खासकर, बिहार में एथनॉल को लेकर कुछ ज्यादा ही बढ़ावा दिया जा रहा है इसको लेकर अलग-अलग क्षेत्रों में नए नए प्लांट का निर्माण करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा की मैं कोशिश कर रहा हूं..1 साल के भीतर, इलेक्ट्रिक वाहनों की लागत देश में पेट्रोल वाहनों की लागत के बराबर होगी और हम जीवाश्म ईंधन पर खर्च किए गए पैसे को बचाएंगे।

इसके अलावा गडकरी ने कहा कि “जलमार्ग हमारे लिए सड़क की तुलना में परिवहन का एक सस्ता साधन है और यह बड़े पैमाने पर सामने आने वाला है। बहरहाल, जहां तक इलेक्ट्रिक वाहनों (Electric Vehicle) की बात है तो इस समय देश में चारपहिया सेग्मेंट में टाटा मोटर्स की सबसे सस्ती इलेक्ट्रिक वाहन Tata Nexon EV है जिसकी कीमत 14.79 लाख रुपये से लेकर 19.24 लाख रुपये के बीच है।

ये भी पढ़ें   ये है Royal Enfield की पहली Electric Bike! तस्वीरों में डिटेल्स आई सामने..

उन्होंने यह भी कहा कि “जल्द ही मैं एक इलेक्ट्रिक ट्रैक्टर और इलेक्ट्रिक ट्रक लॉन्च करूंगा। इससे इलेक्ट्रिक वाहनों की लोकप्रियता कई गुना बढ़ जाएगी। गडकरी ने कहा कि बजाज, टीवीएस और हीरो ने इलेक्ट्रिक बाइक पेश की हैं, और इलेक्ट्रिक रिक्शा भी सड़कों पर हैं। उन्होंने कहा कि 2025 तक ऑटोमोबाइल उद्योग का कुल कारोबार मौजूदा 6.5 लाख करोड़ रुपये से लगभग 15 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा।