पेट्रोल स्कूटर खरीदें या Electric Scooter, न हों कंफ्यूज, पहले जाने ले दोनों के फायदे और नुकसान..

Electric Scooter

डेस्क : लोग बढ़ते जमाने के साथ कदम से कदम मिला रहे हैं। आज के समय में अधिकांश लोगों के घर में दो पहिया वाहन है। लोग इन दुपहिया वाहनों में स्कूटर चलाना अधिक पसंद करते हैं। इन दिनों बाजार में स्कूटरों की संख्या में इजाफा हुआ है। स्कूटर में इलेक्ट्रिक सेगमेंट का भी काफी तेजी से पसार हुआ है। पेट्रोल डीजल के बढ़ते कीमतों के कारण लोग इलेक्ट्रिक स्कूटर की ओर रुख करने लगे हैं। ऐसे में लोग असमंजस में हैं कि इलेक्ट्रिक स्कूटर और पेट्रोल से चलने वाले स्कूटर में कौन बेहतर है। तो आइए आज इलेक्ट्रिक स्कूटर और पेट्रोल से चलने वाले स्कूटर दोनों के फायदे और नुकसान को जानते हैं।

ये है इलेक्ट्रिक स्कूटर के फायदे : सबसे पहले इलेक्ट्रिक स्कूटर के फायदे की बात करें तो यह वजन में हल्के होने के साथ-साथ दिखने में भी आकर्षक होता है। इस स्कूटर के माध्यम से आप स्मूथ राइड का आनंद ले सकते हैं। इसका टॉर्क बहुत ज्यादा होता है, जिससे चलाने में सुविधा होती है। इलेक्ट्रिक स्कूटर को चलाने की लागत लगभग 50 पैसे/किमी है।

ये है इलेक्ट्रिक स्कूटर के नुकसान : वहीं इलेक्ट्रिक स्कूटर के नुकसान की बात करें तो इलेक्ट्रिक स्कूटर की बैटरी की लाइफ काफी कम होती है। इसके अलावा स्कूटर बिगड़ने पर इसके पार्ट बाजार में आसानी से नहीं मिलते हैं इन स्कूटर के जरिए आप लंबी यात्रा पर नहीं निकल सकते हैं। साथ ही अभी शुरुआती दिनों में बाहर चार्जिंग स्टेशन ना होने की वजह से इसे चार्ज करना भी मुश्किल है।

पेट्रोल से चलने वाले स्कूटर के फायदे : अब पेट्रोल से चलने वाली स्कूटर की बात करते हैं तो स्कूटर में लगने वाले पार्ट्स आप आसानी से नजदीकी बाजार में खोज सकते हैं। वहीं इन स्कूटर का रिपेयर कराना भी सरल है। इन स्कूलों के जरिए आप लंबी यात्रा तय कर सकते हैं। आपको रास्ते में कई पेट्रोल पंप मिल जाएंगे।

ये भी पढ़ें   महज 3 लाख में खरीदें ये Electric Car - 1KM चलाने में आएगा 70 पैसे का खर्चा..

पेट्रोल से चलने वाले स्कूटर के नुकसान : वहीं अब पेट्रोल से चलने वाले स्कूटर कि नुकसान की बात करें तो इसे चलाने पर खर्च ज्यादा होता है। यह खर्च प्रति किलोमीटर 2.5 रुपए से अधिक लग जाता है। वहीं पर्यावरण के दृष्टिकोण से स्कूटर सही नहीं है।